ईयरफोन करते हैं इस्‍तेमाल तो हो जाएं सावधान ! बीमारियों को दे रहे बुलावा

54 0
  • दिमाग के सेल्स पर बुरा असर डालती हैं ईयरफोन से निकलने वाली विद्युत विद्युत चुंबकीय तरंगें

लखनऊ। आज हमारे जीवन में टेक्‍नोलॉजी की भूमिका बढ़ती ही जा रही है। हालांकि बहुतों को यह नहीं पता होगा कि ये अपने साथ कई तरह की बीमारियां भी लेकर आई है। इन्हीं में शामिल हैं स्मार्टफोन और ईयरफोन या हेडफोन। ये दोनों चीजें आज हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन गई हैं। इनका ज्यादा देर तक इस्तेमाल केवल आपके कानों को ही नुकसान नहीं पहुंचाता, बल्कि शरीर को कई और तरह से भी नुकसान पहुंचाता है। 

चुकानी पड़ सकती है बड़ी कीमत

आज चाहे हम घर पर हों, ऑफिस में हों, सड़क पर चल रहे हों, बाइक या कार चला रहे हों, हर जगह हम ईयरफोन का बेहिसाब इस्तेमाल कर रहे हैं। इसका फायदा तो बहुत ज्‍यादा नहीं है, हां इसके कई नुकसान जरूर हैं। अगर ईयरफोन से होने वाले इन नुकसानों को हमने नजरअंदाज किया तो हमें इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। ऐसे में समय रहते इसके बारे में जान लेना और इसकी गंभीरता को समझना आवश्यक है।

ईयरफोन से होने वाले नुकसान

  • ईयरफोन लगाकर तेज आवाज में गाना सुनने या बात करने से कान का पर्दा वाइब्रेट होता है,जिससे बहरा होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • ईयरफोन्स के लगातार प्रयोग से सुनने की क्षमता 40 से 50 डेसीबेल तक कम हो जाती है।
  • आमतौर पर कान 65  डेसिबल की ध्वनि को ही सहन कर सकता है,लेकिन ईयरफोन पर अगर 90  डेसिबल की ध्वनि 40 घंटे से ज्यादा सुनी जाए तो कान की नसें पूरी तरह डेड हो जाती हैं।
  • ईयरफोन से निकलने वाली विद्युत चुंबकीय तरंगें दिमाग के सेल्स को प्रभावित करती हैं, जो दिमाग पर बुरा असर डालती हैं।
  • तेज आवाज में लगातार ईयरफोन का इस्‍तेमाल करने से हृदय की गति तेज हो जाती है।इसकी वजह से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।
  • किसी और का यूज किया हुआ ईयरफोन यूज करने से इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।
  • लगातार ईयरफोन लगाकर सुनने से सिर में दर्द और काम पर फोकस करने में परेशानी होती है। साथ ही अनिद्रा की समस्या भी पैदा होती है,जिससे कई गंभीर बीमारियों की आशंका पैदा हो जाती है।
  • यह बाहरी भाग के कान के परदे को नुकसान पहुंचाने के साथ ही अंदरूनी हेयरसेल्स को भी नुकसान पहुंचाता है़ और उम्र बढ़ने के साथ बीमारियां सामने आने लगती हैं।

कैसे बचें इससे

  • 90 डेसीबल से अधिक आवाज में नहीं सुनना चाहिए।ऐसा न करने के लिए आपका मोबाइल और लैपटॉप या कंप्यूटर चेतावनी भी देता है, लेकिन हम इसे नजरअंदाज कर देते हैं।
  • अच्‍छा हो,ईयरफोन लगाकर हमेशा लो या मीडियम आवाज में ही गाने सुनें।
  • अच्‍छी क्‍वालिटी के ईयरफोन का ही इस्‍तेमाल करेंऔर ईयरबड की बजाय हेडफोन का प्रयोग करें क्‍योंकि बाहरी कान में लगे होते हैं।
  • लगातार ईयरफोन का इस्तेमाल ना करें,बीच-बीच में थोड़ी देर के लिए ब्रेक जरूर लें। हर एक घंटे पर 5 मिनट का ब्रेक जरूर लें।
  • अगर आप दूसरे का ईयरफोन इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसे सेनिटाइजर से साफ करना ना भूलें, इससे इन्फेक्शन का खतरा कम हो जाएगा।
  • घर पर जितना संभव हो उतना कम ईयरफोन का इस्तेमाल करें। इसकी बजाय किसी अच्छी कंपनी के स्पीकर का इस्तेमाल करें।

 

 

Related Post

CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने की तैयारी में कांग्रेस

Posted by - March 27, 2018 0
कांग्रेस ने ड्राफ्ट बनवाकर कई पार्टियों के पास बंटवाया, साथ आए करीब आधा दर्जन दल नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार…

जानिए कैसे प्रचलन में आया एलजीबीटी समुदाय का इंद्रधनुषी रंग वाला झंडा

Posted by - September 7, 2018 0
नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने 6 सितंबर को समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिया।  इस फैसले के बाद से देश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *