महंगाई से परेशान हैं ? वेनेजुएला में आप होते तो खाने-पीने के पड़ जाते लाले !

22 0

नई दिल्ली। महंगाई थोड़ी सी बढ़ती है और लोगों की जान हलक में अटकने लगती है। मीडिया में खबरें चलने लगती हैं कि महंगाई जेब काट रही है। रसोई में आग लग गई है। वगैरा-वगैरा। फिर भी आपको और हमें ये जानकर सुकून मिल सकता है कि हम वेनेजुएला जैसे दक्षिण अमेरिकी देश में नहीं रहते। वहां अगर हम रहते होते, तो महंगाई की वजह से खाने-पीने के लाले पड़ जाते साहब। जी हां, वेनेजुएला में महंगाई का आंकड़ा सुनकर आप हैरत में पड़ जाएंगे।

वेनेजुएला में इतनी है महंगाई
वेनेजुएला में कई दशक से वामपंथी सरकार है। दुनिया का ये सबसे बड़ा तेल उत्पादक देश है, लेकिन अमेरिका से पंगा लेना वेनेजुएला को भारी पड़ गया। पूरी दुनिया उससे कट गई। अब हालत ये है कि तेल है, लेकिन बेच नहीं पा रहा। ऐसे में अर्थव्यवस्था की हालत खराब है। अर्थव्यवस्था इतनी चरमरा गई है कि वेनेजुएला में महंगाई 46 हजार फीसदी तक जा पहुंची है।

वेनेजुएला में करेंसी की ये हालत क्यों हुई ?
वेनेजुएला में बोलिवर नाम की करेंसी चलती है। ठीक जैसे हमारा रुपया, लेकिन बोलिवर का मूल्य लगातार इतना गिर रहा है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने अनुमान लगाया है कि 2018 के अंत तक वेनेजुएला में महंगाई की दर 10 लाख फीसदी हो जाएगी। दरअसल, वित्तीय संकट की वजह से वेनेजुएला की सरकार लगातार नोट छापती रही और इसी वजह से महंगाई ने विकराल रूप ले लिया है।

इतनी रकम में इतना मिलता है सामान
वेनेजुएला में अभी न्यूनतम मजदूरी 1 डॉलर प्रति माह है। मई 2018 में हालत ये थी कि किसी को 13 लाख बोलिवर तनख्वाह मिलती हो, तो वो इतनी रकम से सिर्फ 2 लीटर दूध, चार डिब्बे ट्यूना मछली और एक ब्रेड खरीद सकता था।

4 लाख में फटा जूता सिलवाया !
बीते दिनों वेनेजुएला में यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर का जूता फट गया। उन्हें इसे सिलवाने के लिए अपनी चार महीने की सैलरी 20 अरब बोलिवर यानी करीब 4 लाख रुपए देने पड़े। अब हालत ये है कि वेनेजुएला में नाई के पास बाल कटवाने जाइए, तो वो पैसा नहीं अंडा और केला मांगते हैं। कैब सर्विस लेने के लिए सिगरेट का पैकेट देना पड़ रहा है। अनाज, दूध, दवाइयां और बिजली नहीं मिल रही। बेरोजगारी चरम पर है और इस वजह से तेजी से अपराध बढ़ रहे हैं।

कुछ और देशों में महंगाई की इतनी है दर
वेनेजुएला में महंगाई की मार को देखते हुए हम राहत महसूस कर सकते हैं। हमारे यहां महंगाई की मौजूदा दर करीब 5 फीसदी ही है। तो चलिए आपको ये भी बताते हैं कि कुछ अन्य देशों में कितनी महंगाई है। तुर्की यूरोप का देश है। काफी तरक्की भी कर चुका है, लेकिन वहां महंगाई की दर 12 फीसदी है। हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में महंगाई की दर 5 फीसदी से ज्यादा है। दक्षिण अमेरिकी देश मेक्सिको में महंगाई की दर 4.4 फीसदी, सऊदी अरब में 4.4 फीसदी, इंडोनेशिया में 3.5 फीसदी, ब्राजील में 3.5 फीसदी, रूस में 2.9 फीसदी, अमेरिका में 2.5 फीसदी, ब्रिटेन में 2.4 फीसदी, कनाडा में 2.2 फीसदी और चीन में 2.2 फीसदी है।

जापान में सबसे कम महंगाई
जापान में सबसे कम 1 फीसदी महंगाई है। वहीं, इटली में 1.2 फीसदी, दक्षिण कोरिया में 1.7 फीसदी, इजरायल में 1.7 फीसदी, जर्मनी में 1.8 फीसदी, फ्रांस में 1.9 फीसदी और मलेशिया में भी महंगाई की दर 1.9 फीसदी है। यानी इन देशों में आप रहने के लिए जाएं, तो जेब पर बोझ कम पड़ेगा।

Related Post

गुजरात चुनाव : दलित नेता जिग्नेश को अरुंधती ने दिया 3 लाख रुपये चंदा

Posted by - December 1, 2017 0
गुजरात :  गुजरात विधानसभा चुनाव में दलित नेता जिग्नेश मेवानी को मैन बुकर पुरस्कार विजेता अरुंधती रॉय का साथ मिला…

अमेरिका ने पाक को फिर चेताया, आतंकियों को खत्‍म करो नहीं तो हम मिटा देंगे

Posted by - December 4, 2017 0
सीआईए प्रमुख माइक पोंपियो बोले – कार्रवाई नहीं की तो उनसे निपटना जानता है ट्रंप प्रशासन न्यूयोर्क :  अमेरिका ने एक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *