कौन कहता है पेड़ पर नहीं उगते पैसे, यहां लगे हैं हज़ारों सिक्के !

414 0

लखनऊ। एक बड़ी मशहूर कहावत है कि पैसे पेड़ पर नहीं उगा करते। आपने घर में बड़े-बुजुर्गों को भी ऐसा कहते जरूर सुना होगा, लेकिन ब्रिटेन में एक ऐसा पेड़ है जो इस कहावत को गलत साबित कर रहा है। जी हां, यह पूरा पेड़ सिक्कों से लदा हुआ है।

वेल्स के पोर्टमेरियन गांव में पेड़ पर जड़े पैसे

कहां है ये पेड़ ?

बता दें कि यह खास पेड़ वेल्स के पोर्टमेरियन गांव में मौजूद है। हालांकि सच्‍चाई यह है कि करीब 1700 साल पुराने इस पेड़ पर पैसे उगे नहीं हैं, बल्कि हजारों की संख्या में पेड़ पर सिक्के जड़े हुए हैं। पेड़ पर एक इंच भी ऐसी जगह नहीं बची है, जहां पर सिक्के नहीं लगे हों। खास बात ये है कि यहां सिर्फ ब्रिटेन ही नहीं, बल्कि दुनिया के अलग-अलग देशों के सिक्के लगे हुए हैं लेकिन इनमें यूके के सिक्‍कों की संख्‍या ज्‍यादा है। आज ये पेड़ यहां का एक मशहूर टूरिस्ट स्पॉट बन चुका है। लोग यहां आकर सिक्के लगाना नहीं भूलते।

क्यों लगाते हैं सिक्के ?

इस खास पेड़ को लेकर लोगों में बहुत सारी अलग-अलग धारणाएं और मान्यताएं हैं, जिसके कारण लोग इस पर सिक्के लगाते हैं। कई लोगों का मानना है कि पेड़ में ऐसे सिक्के लगाने से उनकी मुरादें पूरी होती हैं और सुख-समृद्धि आती है। वहीं कुछ लोगों का ये भी विश्वास है कि इस पेड़ में कोई दैवीय शक्ति है, जो आपको मुसीबतों से बचाती है। प्रेमी जोड़े रिश्तों में मिठास के लिए भी इस पेड़ पर सिक्के लगाते हैं। क्रिसमस के मौके पर यहां मिठाइयां और गिफ्ट्स भी रखे जाते हैं।

Related Post

पुरी के जगन्नाथ मंदिर के रहस्यमयी खजाने की चाबी गायब, मचा हड़कम्प

Posted by - June 4, 2018 0
ओडिशा हाईकोर्ट के रिटायर जज करेंगे मामले की जांच, तीन महीने में देंगे अपनी रिपोर्ट भुवनेश्वर। ओडिशा के पुरी में…

डेटा चोरी : मार्क जुकरबर्ग ने मानी गलती, केंद्र ने दी थी तलब करने की धमकी

Posted by - March 22, 2018 0
न्यूयॉर्क/नई दिल्ली। डेटा चोरी मामले में चार दिन बाद आखिरकार फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने…

राष्ट्रगान के समय बारिश में बिना छतरी के खड़े रहे राष्ट्रपति कोविंद

Posted by - October 9, 2017 0
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रगान के सम्मान में बारिश में भीगते रहे, लेकिन उन्होंने छाता नहीं लिया. माता अमृतानंदमयी मठ में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *