बच्चे पैदा करने में आप कितने सफल होंगे, ये तय करता है आपका अंडरवियर !

2929 0

नई दिल्ली। तमाम दंपतियों में देखा जाता है कि शादी के कई साल बीतने पर भी उनके बच्चे नहीं होते। वो डॉक्टर के पास जाते हैं और तमाम जांच कराते हैं। कई बार जांच में पता चलता है कि पुरुष में शुक्राणुओं यानी स्पर्म की कमी है और इस वजह से बच्चे नहीं हो रहे हैं। अब एक रिसर्च से पता चला है कि स्पर्म की कमी की एक बड़ी वजह अंडरवियर भी है।

रिसर्च से ये पता चला

पुरुष आमतौर पर दो तरह के अंडरवियर पहनते हैं। नेकर की तरह का बॉक्सर या छोटा ब्रीफ। रिसर्च के मुताबिक जो पुरुष बॉक्सर पहनते हैं, उनमें स्पर्म काउंट ज्यादा होता है। ब्रीफ पहनने वालों में स्पर्म काउंट कम होता है। इसकी वजह फोलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन की कमी है।

क्यों स्पर्म काउंट हो जाता है कम

रिसर्च से पता चला कि टाइट अंडरवियर पहनने से लिंग के आसपास गर्मी बढ़ती है और ऐसा वातावरण तैयार होता है, जिससे स्पर्म मर जाते हैं। हालांकि, पहले भी इस तरह की रिसर्च हो चुकी है, लेकिन बोस्टन के हारवर्ड टीएच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की ताजा रिसर्च में हिस्सा लेने वालों की संख्या काफी ज्यादा 656 रही।

इस तरह की गई रिसर्च

रिसर्च के दौरान 656 पुरुषों में से 345 को हमेशा बॉक्सर पहनाकर रखा गया। इनमें से 25 फीसदी में स्पर्म की संख्या काफी ज्यादा मिली। 17 फीसदी में स्पर्म की संख्या भी ठीक रही। बॉक्सर पहनने वालों में से 33 फीसदी पहली बार में ही सारा स्पर्म निकालने में भी सफल रहे। जबकि, जिन पुरुषों को जॉकी जैसे ब्रीफ पहनाए गए थे, उनमें स्पर्म की संख्या कम मिली।

ज्यादा जींस पहनने से भी हो सकते हैं कम स्पर्म

रिसर्च करने वालों के मुताबिक जो लोग ज्यादातर वक्त टाइट जींस पहनते हैं, उनमें भी स्पर्म की संख्या कम होने की आशंका होती है। फिलहाल ये साफ हो गया है कि स्पर्म की संख्या में कमी की बड़ी वजह अंडरवियर का प्रकार है। तो अगर आप ब्रीफ यानी छोटा अंडरवियर या टाइट जींस पहनते हैं, तो अपने पहनावे में बदलाव कीजिए। ताकि आप आसानी से पिता बन सकें।

Related Post

इस स्निफर डॉग के सिर पर ड्रग माफि‍या ने रखा 48 लाख का इनाम, जानिए क्यों

Posted by - July 30, 2018 0
बोगोटा। दक्षिण अमेरिका के कोलंबिया में एक बड़ा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल यहां यहां एक मादा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *