दिल्ली के बाद अब बुलंदशहर में कांवड़ियों का उत्‍पात, पुलिस को पीटा, जीप तोड़ी

105 0

बुलंदशहर। दिल्ली के बाद अब यूपी के बुलंदशहर में कांवड़ियों के उत्‍पात की खबर सामने आई है। कांवडि़यों ने यहां एक पुलिस की गाड़ी में जमकर तोड़फोड़ की और कई संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया। बताया जा रहा कि कांवडि़यों ने पुलिसवालों की पिटाई भी की।

क्‍या है मामला ?

यह घटना 7 अगस्‍त की है। बताया जा रहा है कि कावड़ियों की भीड़ किसी छोटी सी बात पर भड़क गई और एक शख़्स की पिटाई कर दी। उन्हें रोकने गई पुलिस पर भी कांवडि़यों ने डंडों से हमला बोल दिया। कई पुलिसवालों की पिटाई की गई, कुछ के घायल होने की खबर है। कांवडि़यों ने पुलिस की जीप समेत कई गाड़ियां भी तोड़ दीं। इस घटना के बाद मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया।

वीडियो वायरल होने के बाद केस दर्ज

बुलंदशहर की इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने 10 नामजद और 50 अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर लिया है। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कैसे कांवडि़यों की भीड़ पुलिस की जीप को चकनाचूर कर रही है। लाठी और डंडे से जीप को बुरी तरह क्षतिग्रस्‍त कर दिया गया। पुलिस भीड़ को शांत करने और कंट्रोल करने की कोशिश करती दिख रही है, मगर कांवड़िये नहीं माने।

दिल्‍ली में भी मचाया था तांडव

बता दें कि 7 अगस्‍त को ही दिल्ली में कांवड़ियों की गुंड़ागर्दी देखने को मिली थी। शाम 5 बजे कावड़ियों ने मोतीनगर इलाके में एक कार में जमकर तोड़फोड़ की। पुलिस के मुताबिक, मोती नगर इलाके में एक कावड़िए को हल्की सी कार टच हो गई, जिसके बाद आसपास मौजूद कावड़ियों ने हंगामा खड़ा कर दिया। कार में जमकर तोड़फोड़ की। इतने से मन नहीं भरा तो उन्‍होंने कार को पलट दिया। हमले के वक्त गाड़ी में एक लड़का और लड़की मौजूद थे। दोनों ने भागकर मेट्रो स्‍टेशन में छिपकर मुश्किल से अपनी जान बचाई।

Related Post

दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर बीच चौराहे उतारा मौत के घाट

Posted by - February 3, 2018 0
दिल्‍ली के ख्‍याला इलाके के रघुबीर नगर में हुई दिल दहला देने वाली घटना पुलिस ने युवती के माता-पिता, नाबालिग…

कावेरी जल विवाद : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, नदी पर किसी एक राज्य का अधिकार नहीं

Posted by - February 16, 2018 0
ऐतिहासिक फैसले में सर्वोच्‍च अदालत ने तमिलनाडु के पानी में की कटौती, कर्नाटक को ज्‍यादा पानी नई दिल्ली। कावेरी जल विवाद…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *