सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में पहली बार तीन महिला न्यायाधीश

15 0

नई दिल्ली। मद्रास हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश जस्टिस इंदिरा बनर्जी को सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त किए जाने के बाद अब सर्वोच्‍च अदालत में पहली बार महिला जजों की संख्या तीन हो गई है। वर्तमान में जस्टिस बनर्जी से पहले आर. भानुमति और इंदु मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट में बतौर जज कार्यरत हैं। जस्टिस बनर्जी सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में आठवीं महिला जज हैं। न्यायमूर्ति बनर्जी 23 सितंबर, 2022 को सेवानिवृत्त होंगी। 

कौन-कौन हैं महिला जज

जस्टिस इंदिरा बनर्जी की नियुक्ति हो जाने के बाद सर्वोच्‍च न्‍यायालय के इतिहास में पहली बार तीन महिला जज हो गई हैं। इस समय सुप्रीम कोर्ट में कार्यरत महिला जजों में न्यायमूर्ति आर भानुमति, न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी शामिल हैं। बता दें कि सरकार ने पिछले हफ्ते उत्तराखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश केएम जोसेफ, मद्रास हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी और उड़ीसा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश विनीत शरण को सुप्रीम कोर्ट में प्रोन्नत करने की कोलेजियम की सिफारिश को मंजूरी दी थी। बता दें कि इन नियुक्तियों के बाद सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 25 हो गई है, हालांकि अब भी 6 पद खाली हैं।

अब तक 8 महिला जजों की नियुक्ति

आजादी के बाद 1950 में सुप्रीम कोर्ट के अस्तित्व में आने के बाद से अब तक 8 महिला न्यायाधीशों की नियुक्ति सर्वोच्‍च न्‍यायालय में हो चुकी है। सबसे पहली महिला न्यायाधीश फातिमा बीवी थीं जिनकी नियुक्ति 1989 में हुई थी। जस्टिस फातिमा बीवी के बाद जस्टिस सुजाता वी मनोहर, रूमा पाल, ज्ञान सुधा मिश्रा, रंजना प्रकाश देसाई और फिर जस्टिस आर भानुमति शीर्ष अदालत में न्यायाधीश बनीं। न्यायमूर्ति बनर्जी से पहले वरिष्ठ अधिवक्ता इन्दु मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश बनने वाली 7वीं महिला थीं। जस्टिस इन्‍दु मल्होत्रा पहली महिला न्यायाधीश हैं जिनकी सीधे सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति हुई।

मद्रास उच्च न्यायालय से पहले वह कलकत्ता उच्च न्यायालय में न्यायाधीश और फिर वहीं पर मुख्य न्यायाधीश रह चुकी हैं।

 

Related Post

मोदी सरकार में थमा ग्रामीण इलाकों का विकास, टारगेट से दूर हैं 4 योजनाएं

Posted by - April 14, 2018 0
नई दिल्ली। मोदी सरकार में ग्रामीण इलाकों का विकास थम गया है। पीएम नरेंद्र मोदी के 4 ड्रीम प्रोजेक्ट के…

दिल्‍ली में मेट्रो स्टेशन के अंदर महिला पत्रकार से छेड़खानी

Posted by - November 17, 2017 0
नई दिल्ली । महिला सुरक्षा को लेकर सरकार लाख दावा करे, लेकिन देश की राजधानी दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित नहीं है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *