बच्चों के लिए इतना खतरनाक है जीका वायरस, जानकर होगी हैरत

146 0

नई दिल्ली। बीते दिनों जीका नाम के वायरस का काफी खौफ फैला था। डेंगू और चिकनगुनिया की ही तरह इस जीका ने भी अफ्रीका में बच्चों को निवाला बनाया था और हालत ये हो गई थी कि पूरी दुनिया में इससे बचने के उपायों को लेकर हड़कंप जैसी स्थिति थी। दरअसल, जीका का वायरस होता ही इतना खतरनाक है। इतना खतरनाक कि वो गर्भ में भ्रूण तक को नुकसान पहुंचाता है।

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोध से हुआ खुलासा
ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोध से पता चला है कि जीका वायरस उसी एडीज एजेप्टी नाम के मच्छर के काटने से होता है, जो डेंगू और चिकनगुनिया फैलाता है। शोध करने वालों का कहना है कि जीका वायरस से बच्चों के दिमाग का विकास थम जाता है। इससे माइक्रोसिफेली जैसी कंडीशन बनती है।

दिमाग को छोटा कर देता है जीका वायरस
कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने पाया कि जीका वायरस के अटैक से माइक्रोसिफेली होता है और बच्चों का दिमाग इससे छोटा रह जाता है। जीका का वायरस शरीर में मौजूद प्रोटीन Musashi-1 (MSI1) को भी खत्म कर देता है। दिमाग और शरीर के प्रोटीन पर वायरस के हमले से ही बीमार व्यक्ति की जान चली जाती है।

क्या है MSI1?
MSI1 एक आरएनए-बाध्यकारी प्रोटीन है जो तंत्रिका स्टेम कोशिकाओं के पूल को विनियमित करने का काम करता है। रिसचर्स ने पहली बार MSI1 और जिका वायरस के बीच संबंध के बारे में जाना। रिसचर्स के मुताबिक, भविष्य में उन्हें जिका रोग के टीके बनाने में कामयाबी मिल सकती है।

Related Post

ट्रंप-किम मुलाकात में कुछ घंटे बाकी, 50 करोड़ खर्च कर हो रही दोनों की सुरक्षा

Posted by - June 11, 2018 0
सेंटोसा। दुनिया को उन दो नेताओं के बीच मुलाकात का बेसब्री से इंतजार है, जो मंगलवार को सिंगापुर में होने…

केरल लव जिहाद केस : सुप्रीम कोर्ट के दखल पर हदिया हुई आजाद

Posted by - November 27, 2017 0
सुप्रीम कोर्ट में बोली हदिया – मुझे मेरी आजादी चाहिए, डॉक्टरी पढ़ने जाएगी कॉलेज, सुरक्षा देने का आदेश नई दिल्‍ली। केरल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *