शोध : डॉक्टरों-नर्सों में बातचीत की कमी से मरीजों की देखभाल में होती हैं गड़बड़ियां

63 0

मिशिगन। अस्पतालों में कई बार देखा जाता है कि मरीज की हालत बिगड़ती जाती है और मौत हो जाने पर परिजन आरोप लगाते हैं कि डॉक्टरों और नर्सों ने ठीक से देखभाल नहीं की। आखिर ऐसी स्थिति बनती क्यों है ? इस सवाल का जवाब एक शोध से निकला है। अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी ने अपने शोध में पाया कि मरीजों की देखभाल में गड़बड़ियों और कमी की बड़ी वजह डॉक्टरों और नर्सों के बीच बातचीत न होना है।

शोध में ये पाया गया

  • मिशिगन यूनिवर्सिटी ने इस बारे में डॉक्टरों और नर्सों से बातचीत की।
  • इनमें ज्यादातर डॉक्टरों और नर्सों ने माना कि उनमें मरीज को लेकर बातचीत कम होती है।
  • बातचीत की कमी की बड़ी वजह ये है कि अस्पतालों में नर्सों को कर्मचारियों में से काफी नीचे जगह मिलती है, जबकि डॉक्टरों को काफी वरिष्ठ माना जाता है।
  • शोध से पता चला कि नर्सें सीधे तौर पर मरीजों के लिए जरूरत की चीजों की मांग नहीं करतीं। इससे डॉक्टरों को भी मरीज के बारे में जरूरी जानकारी नहीं मिल पाती है।
  • नर्सों और डॉक्टरों में बातचीत की कमी से डॉक्टरों को ये भी पता नहीं चल पाता कि किस वक्त मरीज की हालत कैसी रही या उसे कौन सी नई दिक्कतें हुईं।
  • जरूरी जानकारियों के अभाव में डॉक्टर अपनी तरफ से मरीजों के इलाज को तय करते जाते हैं।
  • शोध में पता चला कि एक मरीज मुंह में घाव की वजह से टैबलेट या कैप्सूल नहीं ले पा रहा था, लेकिन डॉक्टर को इसका पता नहीं था और वो इंजेक्शन या सीरप की जगह टैबलेट और कैप्सूल ही लिखता रहा।
  • शोध के दौरान एक डॉक्टर ने बताया कि वो नर्स को जवाब देने का मौका नहीं देते हैं।

Related Post

खतरनाक बीमारियों से बचाएगा कृत्रिम एंटी ऑक्सीडेंट, 100 गुना ज्यादा है ताकतवर

Posted by - September 13, 2018 0
टोरंटो। वैज्ञानिकों के एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ है कि मानव निर्मित एक एंटी ऑक्सीडेंट, ‘टैंपो’  प्राकृतिक रूप से मौजूद…

स्‍टडी : पूर्वाग्रह से ग्रसित हो सकते हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाले रोबोट

Posted by - September 20, 2018 0
बोस्टन। वैज्ञानिकों ने एक अध्‍ययन में खुलासा किया है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से युक्त मशीनें बहुत ही आसानी से एक-दूसरे से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *