यूपी की बहानेबाज टीचर, ट्रांसफर होते ही 82 हो गईं प्रेग्नेंट !

344 0

बरेली। आमतौर पर स्कूलों में टीचरों को बच्चों से बहानेबाजी न करने की बात कहते सुना जाता है, लेकिन जब टीचर ही बहाने बनाने लगें  तो क्या कहा जाए ! जी हां, यूपी के सरकारी टीचरों की बहानेबाजी का नया किस्सा सामने आया है। मामला बरेली का है। यहां अंतर जनपदीय ट्रांसफर पर आईं 410  टीचरों को जब स्कूल अलॉट किए गए  तो उनमें से 82  ने खुद को प्रेग्नेंट बता दिया।

घर के नजदीक स्कूल पाने के लिए बहाना

410  महिला और 5 पुरुष टीचर अंतर जनपदीय ट्रांसफर के लिए बरेली आए थे। सबको स्कूल आवंटित हुए। नियम के मुताबिक, दूरदराज के उन स्कूलों में सभी की तैनाती की गई,  जहां टीचर नहीं थे। लिस्ट जारी होते ही 82  टीचरों ने बताया कि वो प्रेग्नेंट हैं और घर से दूर ड्यूटी नहीं कर सकतीं। अलग-अलग बहाने बनाकर स्कूल बदलने के बारे में अब तक बीएसए को 250 आवेदन मिले हैं।

32 टीचरों ने बताई रीढ़ में दिक्कत

82 टीचरों ने जहां खुद को प्रेग्नेंट बताया, वहीं 32 महिला टीचरों ने खुद की रीढ़ में दिक्कत होने से दूर जाने में दिक्कत की बात कही। करीब एक दर्जन टीचरों ने बताया कि उन्हें अपने बुजुर्ग सास-ससुर की देखभाल करनी होती है। कुछ और का कहना था कि उनके बच्चे दुधमुंहे हैं, ऐसे में घर के पास वाला स्कूल चाहिए।

नेताओं से भी करा रहे सिफारिश

केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार, सांसद धर्मेंद्र कश्यप और विधायकों से भी टीचर सिफारिशी चिट्ठियां लिखवा रहे हैं। बीएसए तनुजा मिश्रा के मुताबिक, अगर टीचर स्कूल नहीं जाएंगी  तो वहां बच्चों को कैसे पढ़ाया जाएगा। उन्होंने बताया कि ज्यादातर मामलों में बहानेबाजी लग रही है। वो जांच करा रही हैं। जिन्हें सही में दिक्कत होगी, उनके संबंध में मानवीय आधार पर फैसला लिया जाएगा।

Related Post

पत्रकारों ने बैठक में डीएम को बताईं अपनी समस्याएं, दिया ज्ञापन

Posted by - March 31, 2018 0
महराजगंज। जिलाधिकारी अमरनाथ उपाध्याय ने कहा कि बदलते दौर में मीडिया की भूमिका अहम है। पत्रकारिता समाज को नई दिशा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *