बच्चियों-महिलाओं से रेप की चर्चा सब करते हैं, लड़कों के रेप पर चुप्पी क्यों ?

63 0

नई दिल्ली। महिलाओं और छोटी बच्चियों से आए दिन रेप की खबरें अखबारों की सुर्खियां बनती हैं। इन घटनाओं से आंदोलित लोग कैंडल मार्च निकालते हैं। विपक्षी दल संसद और विधानसभाओं में सरकार को नाकारा बताते हैं, लेकिन रेप का एक दूसरा पहलू भी है। रेप के इस पहलू पर कोई बात नहीं की जाती। ये पहलू है लड़कों के रेप का। जी हां, बच्चियों और महिलाओं की तरह ही लड़कों से भी रेप की तमाम घटनाएं देशभर में होती हैं। इन वारदात के आंकड़े चौंकाने वाले हैं।

केंद्र सरकार का अध्ययन ये कहता है

साल 2007 में केंद्र सरकार ने बाल शोषण पर देशभर में अध्ययन कराया था। इसके नतीजे लड़कों से रेप के मामले को काफी गंभीर बताते हैं। अध्ययन में शामिल 12 हजार 447 बच्चों में से 52.94 फीसदी लड़कों का कहना था कि उनसे रेप हुआ था। राज्यों की बात करें तो दिल्ली में जितने बच्चे यौन शोषण का शिकार होते हैं, उनमें 65.64 फीसदी लड़के होते हैं। बात करें बिहार की तो, वहां 52.96 प्रतिशत, गुजरात में 36.59 प्रतिशत, केरल में 55.04 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 42.54 प्रतिशत, महाराष्ट्र में 49.43 प्रतिशत, राजस्थान में  52.50  प्रतिशत, यूपी में 55.73 प्रतिशत और पश्चिम बंगाल में 43.71 प्रतिशत लड़के यौन शोषण का शिकार बनते हैं।

12 से 15 साल के बच्चे बनते हैं शिकार

केंद्र के अध्ययन के मुताबिक, 12 से 15 साल के 51.03 बच्चों ने बताया कि उनके साथ रेप, निजी अंगों को सहलाना और अपना यौन अंग दिखाने जैसा यौन शोषण हुआ है। बता दें कि बच्चियों से रेप के मामले में धारा 376, पॉक्सो एक्ट की धारा 4 और 6 लगती है, जबकि लड़कों के रेप में 377 लगाई जाती है। अब सुप्रीम कोर्ट एलजीबीटी समुदाय के हक में अगर इस धारा को खत्म करने का आदेश देता है, तो लड़कों से रेप करने वालों के लिए अलग से कानून बनाना पड़ सकता है।

2014 के ये हैं आंकड़े

राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो (NCRB) की 2014 की रिपोर्ट बताती है कि उस साल 4228 लड़कों से रेप किया गया था, जबकि, देश में 18 हजार 763 बच्चे रेपिस्टों का शिकार बने थे। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 2014 में यूपी में लड़कों से रेप के 769 मामले दर्ज हुए थे। 2015 में ये आंकड़ा 8374  था।

Related Post

वैज्ञानिकों का दावा, स्तन कैंसर के इलाज में मददगार है नीम

Posted by - July 27, 2018 0
हैदराबाद के राष्ट्रीय औषधीय शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (NIPER) के वैज्ञानिकों ने किया शोध हैदराबाद। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि…

एनटी रामाराव के बेटे नंदमूरी हरिकृष्णा की नालगोंडा में भीषण सड़क हादसे में मौत

Posted by - August 29, 2018 0
हैदराबाद। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनटी रामाराव के बेटे और मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के साले नंदमूरी हरिकृष्णा की एक भीषण…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *