निसंतान हैं तो खाइए बस ये एक चीज, बच्चे की किलकारी से गूंज उठेगा घर

251 0

मैड्रिड। क्या शादी के कई साल हो गए हैं और आपके घर बच्चे की किलकारी नहीं गूंजी है ? डॉक्टरों को दिखा-दिखाकर थक चुके हैं ? अगर इन सवालों का जवाब हां में है, तो परेशान मत होइए। अपने खानपान में बस एक चीज को जोड़िए और आपके घर बच्चे की किलकारी सुनाई देगी।

बच्चे पैदा न होने की ये होती है वजह
स्पेन की रोविला वर्जीली यूनिवर्सिटी के एक शोध के मुताबिक हर सात में एक दंपति को बच्चे पैदा करने में दिक्कत होती है। इनमें से आधे जोड़ों में इसकी वजह मर्द होते हैं। जी हां, मर्द। इसकी वजह ये है कि खानपान में गड़बड़ी की वजह से उनमें शुक्राणुओं यानी स्पर्म काउंट कम हो जाता है। ऐसे में महिला के एग को पेनीट्रेट करने में शुक्राणु सफल नहीं होते और बच्चे पैदा करने में दिक्कत होती है।

इस एक चीज से बढ़ जाएगी शुक्राणु की संख्या
शोध करने वालों के मुताबिक स्पर्म काउंट यानी शुक्राणु की संख्या बढ़ाने का सबसे बेहतर उपाय सूखे मेवे होते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि जो पुरुष 14 हफ्ते तक रोज दो मुट्ठी अखरोट, बादाम और हेजल नट खाते हैं, उनके शुक्राणुओं की संख्या भी बढ़ती है और वो ज्यादा तेजी से तैर भी लेते हैं।

इस तरह निकाला नतीजा
शोध करने वालों ने 18 से 35 साल तक के 119 सेहतमंद पुरुषों पर शोध किया। इन्हें दो ग्रुप में बांटा गया। एक ग्रुप को रोज 60 ग्राम सूखे मेवे खाने को दिए गए। वहीं, दूसरे ग्रुप की खुराक पहले जैसी रखी गई। 14 हफ्ते बाद पता चला कि सूखे मेवे खाने वालों के शुक्राणुओं में 14 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। शुक्राणुओं के तैरने की ताकत भी 6 फीसदी बढ़ गई थी। इससे साफ हो गया कि ओमेगा-3, फैटी एसिड और एंटी ऑक्सीडेंट खाने से प्रजनन क्षमता बढ़ती है। बता दें कि सूखे मेवों में ये सारे तत्व होते हैं।

Related Post

निर्मला सीतारमण के ‘सलाम-नमस्ते’ पर चीन भी फिदा, खूब हो रही तारीफ

Posted by - October 9, 2017 0
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण का नाथूला दौरा इन दिनों सुर्खियां में बना हुआ है. चीनी सैनिकों के साथ उनके सद्भावना पूर्ण…

संविधान के अनुच्छेद 35-A पर अब अगले साल सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

Posted by - August 31, 2018 0
नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने संविधान में जम्मू-कश्मीर से संबंधित अनुच्‍छेद 35-A पर सुनवाई एक बार फिर टाल दी है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *