AI पर रिसर्च करेगा बेंगलुरु IIIT का छात्र, गूगल ने दिया 1.2 करोड़ का पैकेज

70 0

बेंगलुरु। बेंगलुरु के  इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफोर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी (IIITB) के एक छात्र को गूगल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) पर रिसर्च करने के लिए 1.2 करोड़ के पैकेज ऑफर किया है। IIITB के इस छात्र का नाम आदित्य पालीवाल है। 22 वर्षीय आदित्य पालीवाल मूल रूप से मुंबई के हैं और वर्तमान में इंटीग्रेटेड एमटेक के छात्र हैं।

कैसे हुआ चयन ?

आदित्‍य ने बताया कि गूगल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की टेक्नोलॉजी पर रिसर्च करने के लिए एक टेस्ट लिया था। इसमें पूरी दुनिया के 6 हजार छात्रों ने हिस्सा लिया था और इनमें से 50 छात्रों का चयन हुआ, जिनमें से एक आदित्‍य पालीवाल भी हैं।

आईसीपीसी के फाइनलिस्‍ट भी रहे हैं आदित्‍य

बता दें कि आदित्य 2017-18 के एसीएम इंटरनेशनल कॉलेजिएट प्रोग्रामिंग कॉन्टेस्ट (आईसीपीसी) के भी फाइनलिस्ट रहे हैं। यह कॉन्टेस्ट कंप्यूटर कोडिंग प्रोग्राम से संबंधित प्रतिष्ठित प्रतियोगिताओं में से एक है। अप्रैल में हुई इस प्रतियोगिता में सिमरन दोजानिया और श्याम केबी उनके साथी थे। इस प्रतियोगिता में 111 देशों के 3098 विश्वविद्यालयों के करीब 50 हजार विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया था। इस कॉम्पटिशन में छात्र कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग से संबंधित समस्याओं को हल करने के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं।

16 जुलाई से गूगल के साथ शुरू करेंगे काम

आदित्य पालिवाल ने बताया कि वे 16 जुलाई से गूगल के साथ काम करना शुरू करेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि गूगल में काम करने के दौरान वह कई नई चीजें सीखेंगे और रिसर्च करेंगे। अपने बेंगलुरु प्रवास के अनुभव के बारे में आदित्‍य ने कहा, ‘यहां रहना काफी अच्छा अनुभव रहा। फैकल्टी ने हमेशा मुझे बेहतर करने के लिए प्रेरित किया और मेरे इनोवेटिव आइडियाज को सपोर्ट किया। मेरे सीनियर्स ने भी मेरी कामयाबी में अहम रोल निभाया। मिस्टर श्रीनिवासगुरु और मुरलीधर का तो मेरी कामयाबी में बहुत अहम रोल है। सच कहूं तो जो मैं कर पाया ये उन्हीं की वजह से है।’ आदित्य को प्रोग्रामिंग के अलावा कार ड्राइविंग पसंद है। साथ ही फुटबॉल और क्रिकेट उनके पसंदीदा खेल हैं।

Related Post

सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ रहा महिलाओं का ‘ग्रीन गैंग’

Posted by - April 12, 2018 0
मिर्जापुर में गैंग की महिलाएं गांव-गांव जाकर नशा करने वालों के खिलाफ चलाती हैं मुहिम महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और स्वच्छता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *