दिल्ली के कपड़ा व्यापारी की महराजगंज में हत्या, मुख्य आरोपी गिरफ्तार

281 0
  • अवैध संबंधों के कारण हुई चांदनी चौक के व्‍यापारी रामप्रीत की हत्‍या, पुलिस ने 24 घंटे के भीतर किया खुलासा

शिवरतन कुमार गुप्ता राज़

महराजगंज। दिल्ली के चाँदनी चौक निवासी कपड़ा व्यापारी रामप्रीत  (46) की महराजगंज जिले के पिपरा रसूलपुर गांव में हत्‍या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। वह यहां अपने एक दोस्त के घर शादी समारोह में शामिल होने आया था। उसकी लाश सोमवार (2 जुलाई) सुबह उसके दोस्‍त के घर के पास ही मिली। घटना के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। उधर, घटना के 24 घंटे के भीतर ही कोतवाली पुलिस ने हत्‍या के मुख्‍य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

क्‍या है मामला ?

बताया जा रहा है कि दिल्ली के चाँदनी चौक निवासी कपड़ा व्यापारी रामप्रीत महराजगंज कोतवाली क्षेत्र में स्थित अपने दोस्‍त स्‍वर्गीय बलराम के घर पिपरा रसूलपुर गांव में शादी समारोह में आए थे। जानकारी के मुताबिक, करीब 13 साल पहले बलिराम से दिल्ली में ही रामप्रीत की दोस्ती हुई थी। कुछ ही दिन बाद बलिराम की मौत हो गई, लेकिन इसके बाद भी रामप्रीत का उसके घर आना-जाना जारी रहा। कुछ दिन पहले बलिराम के घर शादी थी जिसमें रामप्रीत को भी बुलाया गया था। शादी समारोह के बाद भी रामप्रीत कुछ दिनों के लिए दोस्त के घर रुक गया। अचानक रविवार को बलिराम के घर के बगल में रामप्रीत का शव मिला। उनके चेहरे पर धारदार हथियार के निशान मिले हैं।

पुलिस की गिरफ्त में हत्या का आरोपी राजेश

24 घंटे के भीतर आरोपी गिरफ्तार

घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। बलराम के बेटे दिलीप कुमार की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने राजेश, पुत्र श्रीराम निवासी महुअवा टोला के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया। इसके बाद पुलिस राजेश के घर पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त लकडी का खून लगा हुआ फट्ठा भी बरामद कर लिया है।

राजेश ने क्‍यों की रामप्रीत की हत्‍या ?

हत्‍यारोपी राजेश से जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो उसने सारा राज उगल दिया। राजेश ने बताया कि उसकी पत्‍नी रोमा का मायका रसूलपुर गांव में ही है। वह कई साल से मायके में रह रही थी। राजेश ने बताया कि रोमा से रामप्रीत ने नाजायज संबंध बना लिया था। यही नहीं,  उसकी सास से भी रामप्रीत के अवैध संबंध थे। राजेश ने कहा  कि वह कई सालों से यह सब बर्दाश्‍त कर रहा था, अब बात से आगे बढ़ गई थी। इसी कारण उसने 01 जुलाई की रात छत पर सोते समय लकड़ी के फट्ठे से रामप्रीत पर प्रहार किया जिससे उसकी मौत हो गई। फिर उसके बाद रामप्रीत को छत से नीचे गिरा दिया ।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *