इस DM  ने जो किया, वो दूसरे भी करें तो बुजुर्गों को मिलेगा बड़ा सहारा

142 0

तमिलनाडु। आपने अक्सर सुना और देखा होगा कि सरकारी अफसरों के ठाट-बाट ही अलग होते हैं। एक काम कराने के लिए उनके पीछे दर्जनों बार चक्कर लगाना पड़ता है,लेकिन एक सरकारी अफसर ने ये परिभाषा बदल दी है। हाल ही में एक मामला सामने आया है  जिसमें सरकारी मदद से मोहताज एक 82 साल की वृद्ध महिला के घर जिले के कलेक्टर जा पहुंचे। उन्‍होंने मानवता की ऐसी मिसाल पेश कीजिसे देखकर सभी दंग रह गए।

कलेक्टर टी अंबाज़गेन चिन्नमालनिकिकेन पट्टी में स्थित इस बुजुर्ग महिला की परेशानी देखकर उनके घर खाना लेकर पहुंचे थे। कलेक्टर ने केले के दो पत्तों पर खाना परोसा। उस वृद्ध महिला के साथ ही कलेक्‍टर जमीन पर बैठे और एक में खुद खाया तथा दूसरे में महिला को खिलाया।

बता दें कि एक जन सुनवाई कार्यक्रम के दौरान कलेक्टर को पता चला था कि एक महिला घनघोर गरीबी में जिंदगी गुजार रही है। लोगों ने कलेक्टर से अपील की कि इस महिला की कुछ मदद की जाए। इसके बाद कलेक्टर महिला के घर पहुंचे। दरअसल, यहां के लोग इस महिला की मुश्किलों से वाकिफ थेलेकिन उसकी मदद नहीं कर पा रहे थे। बढ़ती उम्र की वजह से ये महिला काम नहीं कर पाती थी और उसका गुजारा मुश्किल हो रहा था।

कलेक्टर टी अंबाज़गेन ने अपने मातहतों को निर्देश दिया कि इस महिला को हर महीने एक हजार रुपये वृद्धा पेंशन दी जाए। कलेक्टर ने कहा कि वृद्धा पेंशन ऐसी महिलाओं के लिए ही है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ऐसे लोगों को पेंशन स्कीम के तहत लाने के सभी उपाय करेगा। उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिया कि पेंशन स्कीम से जुड़ी लटकी हुई फाइलों को जल्द से जल्द निपटाया जाए।

Related Post

मिसाल : गांववालों की प्यास बुझाने को 70 साल के सीताराम ने अकेले खोद डाला कुआं

Posted by - May 26, 2018 0
छतरपुर। बिहार में दशरथ मांझी ने अपने हौसले और जज्‍बे से अकेले पहाड़ को काटकर रास्‍ता बना दिया था। अब…

हर दिन 6 घंटे के लिए स्कूल में तब्दील हो जाता है यह पुलिस स्टेशन, खुद पढ़ाते हैं पुलिस वाले

Posted by - September 11, 2018 0
देहरादून। आमतौर पर सारे पुलिस स्टेशन एक जैसे ही होते हैं, लेकिन देहरादून में एक ऐसा पुलिस स्टेशन है जो…

सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ रहा महिलाओं का ‘ग्रीन गैंग’

Posted by - April 12, 2018 0
मिर्जापुर में गैंग की महिलाएं गांव-गांव जाकर नशा करने वालों के खिलाफ चलाती हैं मुहिम महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और स्वच्छता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *