बुलेटप्रूफ शीशे की दीवारों से ढंका जाएगा पेरिस का एफिल टावर

154 0
  • आतंकी हमलों की आशंका के कारण अभेद्य बनाई जा रही एफिल टावर की सुरक्षा

पेरिस। फ्रांस के पेरिस में सीन नदी के किनारे बना एफिल टावर दुनिया के सात अजूबों में से एक है। वैसे तो एफिल टावर लोहे से बना एक मजबूत स्‍मारक है, लेकिन पिछले काफी अर्से से आतंकी हमले झेल रहा फ्रांस इसकी सुरक्षा में कोई चूक नहीं चाहता। यही कारण है कि एफिल टावर की हिफाजत को और भी पुख्‍ता करने के लिए इसे बुलेटप्रूफ शीशे की दीवार और स्टील फेंसिंग से ढंकने की तैयारी की जा रही है।

कैसी होगी सुरक्षा व्‍यवस्‍था ?

‘द गार्जियन’ अखबार के अनुसार, एफिल टावर की सुरक्षा को अभेद्य बनाने के लिए इसे बुलेटप्रूफ शीशे की दीवार और स्टील फेसिंग से ढंका जा रहा है। शीशे की बुलेटप्रूफ दीवार 2.5 इंच चौड़ी और 10 फीट ऊंची होगी। इसके एक पैनल का वजन 1.5 टन होगा। दीवार से पहले इसमें 240 ब्लॉक भी लगाए गए हैं। टावर को सुरक्षित करने के लिए इसके दोनों तरफ 3.24 मीटर ऊंचाई के मेटल के बैरियर लगाए जाएंगे, ताकि यदि ट्रक से हमला हो तो आतंकी इस दीवार को भेद ना सकें।

300 करोड़ रुपये होंगे खर्च

रिपोर्ट के अनुसार, आतंकी हमले की आशंका के कारण पेरिस के लगभग सभी प्रमुख स्‍थानों और इमारतों को सुरक्षित बनाने का काम किया जा रहा है। इसी क्रम में एफिल टावर की सुरक्षा भी अभेद्य बनाई जा रही है। इस पर 300 करोड़ रुपये खर्च होंगे और यह काम इसी साल जुलाई तक पूरा करने की योजना है। अब पर्यटकों को तीन स्तरीय जांच के बाद ही यहां प्रवेश करने की इजाजत दी जाएगी। बता दें कि ये सारी कवायद 2015 से पेरिस में हुए आतंकी हमलों में 240 लोगों की मौत के बाद शुरू की गई है।

क्यों खास है एफिल टावर ?

फ्रांसीसी क्रांति के सौ साल पूरे होने पर 26 जनवरी, 1887 को पेरिस के एफिल टावर की नींव रखी गई थी। इस बनाने में दो साल का वक्‍त लगा। 1889 में यह बनकर तैयार हुआ। एफिल टावर का डिजाइन गुस्ताव एफिल ने तैयार किया था। वे पेशे से इंजीनियर थे। उन्हीं के नाम पर इसका नाम एफिल टावर पड़ा है। इस टावर की ऊंचाई 324 मीटर (1063 फीट) है, जो लगभग 81 मंजिला इमारत के बराबर है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस टावर को सिर्फ 20 साल के लिए ही बनाया गया था, उसके बाद इसे गिरा देने की योजना थी। लेकिन 20 साल में इसकी लोकप्रियता ऐसी बढ़ी कि इसे गिराने का विचार रद्द कर दिया गया। तीन मंजिला यह टावर पर्यटकों के लिए सालभर खुला रहता है। दुनियाभर से करीब 60 लाख पर्यटक हर साल एफिल टॉवर को देखने आते हैं।

Related Post

गुजरात चुनाव: रोड शो कैंसिल होने पर पीएम मोदी का प्‍लान बी, साबरमती में उतारा सी-प्‍लेन

Posted by - December 12, 2017 0
अहमदाबाद: गुजरात में दूसरे चरण के लिए चुनाव प्रचार के अंतिम दिन चुनावी सफर के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *