Quantico में टेरर: प्रियंका से नाराज हुए हिन्दू, तो ABC बोला- हमका माफ़ी दई दो

119 0

मुंबई। अमेरिकी मीडिया कंपनी एबीसी ने अपने क्राइम सीरियल ‘क्वांटिको’ में हिंदुओं को बतौर उग्रवादी दिखाने पर माफी मांगी है। इस सीरियल के सीजन 3 में दिखाया गया था कि पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए एक भारतीय राष्ट्रवादी आतंकी साजिश की प्लानिंग करता है। जिसे प्रियंका चोपड़ा पकड़ती हैं। इसे लेकर प्रियंका पर जमकर निशाना साधा जा रहा था। अब एबीसी प्रियंका के बचाव में सामने आया है।

इस एपिसोड में लीड रोल में नजर आ रही बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के खिलाफ लोगों का गुस्सा निकला। जिसके बाद अमेरिकी टेलिविजन स्टूडियो एबीसी ने क्वांटिको के एपिसोड में हिंदू आतंकवाद दिखाने के लिए माफी मांगी। एबीसी ने कहा है कि शो में कई पुरानी पृष्ठभूमि का सहारा लिया गया, लेकिन इस मामले में हम अनजाने में एक जटिल राजनीतिक मुद्दे में उलझ गए। हमारा ऐसा कोई इरादा नहीं था जिससे किसी की भावना को ठेस पहुंचे।

आपको बता दें इस विवाद की शुरुआत प्रियंका के डायलाग से हुई- ”ये पाकिस्तानी नहीं है। इसके गले में रुद्राक्ष की माला है। ये किसी पाकिस्तानी मुसलमान के गले में नहीं हो सकती। ये एक भारतीय राष्ट्रवादी है जो पाकिस्तान को फंसाने की कोशिश कर रहा है।”

अमेरिका में बसे एक हिंदू विद्वान डेविड फ्रावले ने ट्वीट किया, ‘एक फर्जी कहानी के जरिए हिंदू आतंकवाद की कल्पना को गढ़ा गया है। यह फर्जी कहानी अमेरिकी टेलीविजन पर प्रियंका चोपड़ा की मदद से दिखाई गई है। क्या कोई पाकिस्तानी अभिनेत्री कभी पाकिस्तान या इस्लाम के खिलाफ ऐसा धोखा करेगी।

https://twitter.com/davidfrawleyved/status/1005082238864838656

रोहिंग्या मसले पर प्रियंका हुईं थीं ट्रोल
बता दें कि क्वांटिको में हिंदू उग्रवादियों को पकड़ने वाला सीन करके प्रियंका निशाने पर हैं, लेकिन बतौर यूनिसेफ की ब्रांड एम्बेसडर बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमानों के कैंपों में जाकर उनकी दयनीय हालत पर बयान देकर वो पहले ही काफी ट्रोल हो चुकी हैं।

बांग्लादेशी लेखिका ने भारतीयों को ठस दिमाग का बताया

टीवी सीरियल ‘क्वांटिको’ की बांग्लादेशी-अमेरिकी लेखिका शर्बरी अहमद  ने इस मुद्दे पर प्रियंका और एबीसी के खिलाफ हिंदुओं के गुस्से पर कहा कि वह भारतीय ट्वीटर्स की प्रतिक्रियाओं से चिंतित हैं। एक इंटरव्यू में शर्बरी ने कहा , ” भारत के लोग इस समय जिस तरह की प्रतिक्रिया कर रहे हैं, उसे देखकर उनकी मानसिक स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है कि वो कितने खुले दिमाग के हैं। इस तरह की बेतुकी प्रतिक्रिया पद्मावत फिल्म की लॉन्च के दौरान भी देखने को मिली थी। राष्ट्रवाद का विचार रंग खुद ही समस्या खड़ी कर रहा है मैं कह सकती हूं कि मैं आप से बेहतर हूं, मेरी संस्कृति और विश्वास आपके से बेहतर हैं।

 

Related Post

श्रीलंका में हिंसा फैलने के बाद 10 दिनों के लिए लगाई गई इमरजेंसी

Posted by - March 6, 2018 0
भारत के लिए चिंता : टी-20 त्रिकोणीय सीरीज खेलने गई टीम इंडिया इस समय कोलंबो में मौजूद कोलंबो। सांप्रदायिक हिंसा के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *