नीट 2018 : 99.99 पर्सेंटाइल के साथ दिल्ली की कल्पना ने किया टॉप

50 0

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने मेडिकल-डेंटल कॉलेजों में दाखिले के लिए नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) 2018 के नतीजे सोमवार (4 जून) को घोषित कर दिए हैं। इस बार रिजल्ट 54% रहा। दिल्ली की कल्पना कुमारी 720 में से 691 नंबर लाकर मेरिट में पहले स्थान पर रहीं। कल्‍पना कुमारी के  99.99 पर्सेंटाइल रहे। पिछले साल के टॉपर से उनके 6 नंबर कम रहे। इस बार 10 टॉपर में से पांच राजस्थान से हैं। छात्र cbseneet.nic.in और cbseresults.nic.in पर अपने परिणाम देख सकते हैं।

13.36 लाख स्टूडेंट्स ने दी थी परीक्षा

जिन स्टूडेंट्स ने NEET 2018 क्वालीफाई कर लिया है, अब उन्हें ऑनलाइन काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होगा। ऑनलाइन काउंसलिंग का शेड्यूल 15 फीसदी ऑल इंडिया कोटा मेडिकल काउंसलिंग कमेटी की ऑफिशियल वेबसाइट mcc.nic.in पर जारी किया जाएगा। इस बार देशभर से तकरीबन 13.36 लाख स्टूडेंट्स 6 मई को इस परीक्षा में शामिल हुए, जिसमें से 66000 एमबीबीएस और डेंटल सीटों के लिए उम्मीदवारों को चुना जाएगा। ऐसा कहा जा रहा है कि NEET 2018  की कट ऑफ कम हुई है।

कोर्ट ने रिजल्ट पर स्टे देने से किया इनकार

बता दें कि नीट के नतीजे 5 जून को आने थे, लेकिन अपर एज लिमिट को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद इसे समय से पहले घोषित कर दिया गया। कुछ छात्रों ने परीक्षा में बैठने की उम्र बढ़ाने की मांग को लेकर याचिका दायर की थी और कहा था कि उम्र बढ़ाने का फैसला आने तक नतीजों पर रोक लगाई जाए। कोर्ट ने इसे खारिज करते हुए नतीजों पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। मामले की अगली सुनवाई 2 जुलाई को होगी।

 NEET से जुड़ी कुछ खास बातें

  • साल 2016 से पहले तक मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम को ऑल इंडिया प्री-मेडिकल टेस्ट (AIPMT) कहा जाता था।
  • इसके तहत गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों की 15% एमबीबीएस और बीडीएस की सीटों को भरा जाता था।
  • बाकी की 85% सीटें स्टेट गवर्नमेंट अपने एंट्रेंस एग्जाम के जरिए भरती थीं। इसके साथ ही प्राइवेट कॉलेज भी अलग से एंट्रेंस टेस्ट लेते थे।
  • इतने सारे एग्जाम्स की जगह 2017 में NEET का कॉन्सेप्ट आया और इसी साल पहली बार देशभर में ये एग्जाम हुआ।
  • अब इस एग्जाम के जरिए ही स्टूडेंट्स को प्राइवेट और गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों में दाखिला मिलता है।
  • NEET एग्जाम के जरिए AIIMS, JIPMER और AFMC को छोड़कर बाकी सभी गवर्नमेंट और प्राइवेट मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है।

Related Post

OMG : दिमाग के खास हिस्से को नुकसान पर बढ़ती है सांप्रदायिक भावना !

Posted by - March 26, 2018 0
वॉशिंगटन। आजकल देशभर में सांप्रदायिकता बढ़ने को लेकर चर्चा का दौर चल रहा है। आखिर सांप्रदायिक भावना आती कहां से…

पीएनबी महाघोटाला : नीरव व अन्य आरोपियों के खिलाफ इंटरपोल डिफ्यूजन नोटिस जारी

Posted by - February 16, 2018 0
नई दिल्ली। पंजाब नैशनल बैंक में हुए महाघोटाले के आरोपियों पर शिकंजा कसने की कवायद शुरू हो गई है। करीब…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *