किसी भी पड़ाव पर जीवनशैली में बदलाव दिल की सेहत के लिए अच्छा

155 0

लखनऊ। ‘नेवर टू लेट’ यानी जब जागे तभी सवेरा। यह कहावत सेहत के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव के मद्देनजर एकदम सटीक है। कुछ नए शोध से पता चला है कि जो लोग आरामतलब और बिना शारीरिक श्रम वाला जीवन बिताते चले आ रहे हैं, वो अगर फिटनेस वाली लाइफ स्टाइल अपना लेते हैं तो उनके हृदय को हो चुका नुकसान पलटा जा सकता है।

क्‍यों होता है ऐसा ?

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हृदय में अपने आपको दुरुस्त करने की क्षमता होती हैI लेकिन हृदय की इस क्षमता का फायदा 65 साल की उम्र से पहले ही फिटनेस आधारित लाइफ स्टाइल अपनाने से होता है। मतलब ये कि 65 की उम्र से पहले अगर फिटनेस और व्यायाम का सही सिलसिला शुरू कर दिया जाए तभी कोई लाभ मिल सकेगा।I वैसे सर्वोत्तम लाभ तब मिलता है जब 40 साल का पड़ाव ख़त्‍म होने से पहले फिटनेस रूटीन पकड़ ली जाए।

डॉ. बेंजामिन ने शोध से निकाला निष्‍कर्ष

शोधकर्ता डॉ. बेंजामिन लेविन एक हृदयरोग विशेषज्ञ हैं। उन्होंने दो साल के रिसर्च के बाद ये निष्कर्ष निकाला हैI। उनका कहना है, ‘व्यायाम की यह डोज जिन्दगी के लिए मेरा नुस्खा हैI।’ वे कहते हैं – प्रौढ़ावस्था में गतिहीन यानी आरामतलब जीवन शैली से व्यक्ति के हृदय की मांसपेशियां कड़ी हो जाती हैं जिससे हृदय का आउटपुट कम हो जाता हैI। इसका परिणाम यह होता है‍ कि ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। रिसर्च में ऐसी जीवनशैली वाले लोगों के ग्रुप बनाए गए और उन्हें दो साल तक विशेष प्रकार की फिटनेस रूटीन अपनाने को कहा गया। बाद में पाया गया कि इन लोगों में ओवरआल क्षमता 18 फीसदी बढ़ गई और इनके हृदय की मांसपेशियों का कड़ापन काफी हद तक कम हो गयाI।

कैसा होना चाहिए व्‍यायाम ?

शोधकर्ताओं ने पाया कि व्यायाम ऐसा होना चाहिए जो उच्च तीव्रता और निम्न तीव्रता का मिश्रण हो। यानी व्यायाम वार्म अप और कूल डाउन के साथ 30 से 60 मिनट तक किया जाए और इसमें सप्ताह के हिसाब से हल्का, थोड़ा तीव्र और ज्यादा तीव्र व्यायाम किया जाना चाहिए। ऐसा करने से ही अधिकतम लाभ दिखाई पड़ता है।

Related Post

दूर्वा के बिना अधूरी मानी जाती है गणपति की पूजा, ये दिलाता है इन बीमारियों से तुरंत निजात

Posted by - September 15, 2018 0
लखनऊ। गणेश पूजा में एक खास तरह की घास का विशेष महत्‍व होता है, जिसे दूर्वा कहते हैं। यह गणेश…

3 तलाक बिल राज्यसभा में पेश, कांग्रेस बोली – सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए

Posted by - January 3, 2018 0
कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने संशोधनों का प्रस्ताव रखा, वित्तमंत्री अरुण जेटली ने किया विरोध नई दिल्‍ली। लोकसभा में पास…

मक्का मस्जिद ब्लास्ट में असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी, 9 लोगों की गई थी जान

Posted by - April 16, 2018 0
हैदराबाद। यहां नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी यानी एनआईए की एक अदालत ने मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में सारे आरोपियों को बरी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *