कैराना-नूरपुर उपचुनाव : दलित-मुस्लिम इलाकों में EVM फेल, सपा-रालोद चुनाव आयोग पहुंचे

92 0

कैराना/लखनऊ। यूपी की कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए सोमवार (28 मई) को मतदान हो रहा है। कैराना और नूरपुर में वोटिंग के दौरान बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) में गड़बड़ी की शिकायतें मिली हैं। इसके बाद विपक्षी खेमे के नेता सक्रिय हो गए। कैराना लोकसभा सीट से RLD उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की है। सपा नेता रामगोपाल यादव और आरएलडी चीफ अजित सिंह शाम को चुनाव आयोग जाएंगे।

साजिश के तहत ईवीएम खराब करने का आरोप

समाजवादी पार्टी ने कैराना और नूरपुर उपचुनाव में साजिश के तहत ईवीएम को खराब करने का आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की है। सपा ने आरोप लगाया है कि हार के डर से बीजेपी ने ईवीएम के साथ छेड़छाड़ करवाई है। सपा ने चुनाव आयोग से शिकायत करते हुए दोनों ही जगह चुनाव रद्द कराने की भी मांग की है।

कैराना लोकसभा से रालोद प्रत्याशी तबस्सुम हसन द्वारा चुनाव आयोग को भेजा गया पत्र

आरएलडी प्रत्‍याशी तबस्‍सुम ने भेजा आयोग को पत्र

कैराना लोकसभा से आरएलडी उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा, ‘मेरे चुनाव को प्रभावित किया जा रहा है। स्थानीय प्रशासन दबाव में काम कर रहा है। दलित, मुस्लिम और जाट बहुल इलाकों में ईवीएम में गड़बड़ियां की जा रही हैं।’ तबस्सुम ने आरोप लगाया कि ‘हमारी जीत का अंतर कम करने की साजिश है। बाकी जगहों पर ईवीएम सामान्य चल रहे हैं। इस संबंध में उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिकायत भी की है।

बीजेपी ने आरोपों को किया खारिज

तबस्सुम हसन द्वारा लगाए जा रहे आरोपों को बीजेपी उम्मीदवार मृगांका सिंह ने खारिज किया है। उन्‍होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि किसी विशेष इलाके में EVM के खराब होने की बात हो। कैराना में कई जगह से EVM में गड़बड़ी की शिकायतें आ रही हैं।’

गोरखपुर-फूलपुर का बदला ले रही बीजेपी : चौधरी

उधर, सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि नूरपुर में करीब 140 ईवीएम ख़राब होने की सूचना है। यही हाल कैराना में भी है। ईवीएम में खराबी साजिश के तहत की गई है। उन्होंने कहा कि बीजेपी गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में हार का बदला किसी भी सूरत में लेना चाहती है। सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उप चुनाव में जगह-जगह से EVM मशीन के ख़राब होने की ख़बरें आ रही हैं, लेकिन फिर भी अपने मताधिकार के लिए ज़रूर जाएं और अपना कर्तव्य निभाएं।

Related Post

जानते हैं क्या है न्यू वर्ल्ड सिंड्रोम? भारत में 75% लोग आ चुके हैं इसकी चपेट में

Posted by - August 14, 2018 0
नई दिल्ली। न्यू वर्ल्ड सिंड्रोम…शायद ये नाम आपने पहली बार सुना होगा। अधिकतर लोगों को इसकी जानकारी नहीं है जबकि…

ब्रिटेन में दांत की बीमारियां बनीं देशव्यापी संकट, बीडीए ने जताई चिंता

Posted by - May 27, 2018 0
लंदन। ब्रिटेन के नागरिकों में दांतों की समस्‍या बड़े पैमाने पर सामने आ रही है। यहां के बाशिंदों के दांतों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *