शोध : इंसानों की हरकत से जंगली जानवर भी हो रहे कैंसर का शिकार

1118 0

वॉशिंगटन। बदलते खानपान और पर्यावरण प्रदूषण की वजह से इंसानों में तमाम बीमारियां घर कर रही हैं, फिर भी जिस बीमारी का सबसे बड़ा खतरा है वो है कैंसर। हर साल दुनियाभर में लाखों लोग कैंसर से मारे जाते हैं। सिर्फ भारत में ही हर साल 7 लाख लोग कैंसर से जान गंवाते हैं, लेकिन अब कैंसर जैसी गंभीर बीमारी जंगली जानवरों को भी हो रही है। जी हां, पर्यावरण से हम जिस तरह छेड़छाड़ कर रहे हैं और प्रदूषण बढ़ा रहे हैं, वो जंगली जानवरों को भी कैंसर जैसी बीमारी दे रहा है।

अमेरिकी शोध का नतीजा
अमेरिका के एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के शोध के मुताबिक, पर्यावरण में बदलाव से तमाम वायरस आ गए हैं, जिनसे इंसानों में कैंसर होता है। यही वायरस फैलकर अब जंगली जानवरों को कैंसर का शिकार बना रहे हैं। एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं में शामिल टुल सेप का ये कहना है। शोध के मुताबिक, खाने के बाद जो बची हुई चीजें हम बाहर फेंकते हैं, उन्‍हें खाने जंगलों से जानवर मसलन भालू, तेंदुआ, बाघ और पक्षी आते हैं और वो उस वायरस को भी ग्रहण करते हैं, जो उन्हें बीमार करता है।

पर्यावरण में बदलाव कर रहा है सभी को बीमार
टुल सेप के मुताबिक, इंसान की एक फितरत है कि हम अपने फायदे के लिए पर्यावरण और पारिस्थितिकी को बदल लेते हैं, लेकिन यही बदलाव अन्य प्रजातियों पर बड़ा असर डालते हैं और उन प्रजातियों में कैंसर और अन्य घातक बीमारियां जन्म लेती हैं। शोध से पता चला है कि समुद्रों में प्रदूषण, ऊर्जा संयंत्रों से होने वाला रेडिएशन और कीटनाशकों की वजह से जंगली जानवरों में ट्यूमर होता है।

इन चीजों का भी जानवरों पर होता है असर
शोधकर्ता टुल सेप के अनुसार, कृत्रिम रोशनी भी एक तरह से प्रदूषण करने वाली होती है। इसका भी जंगली जानवरों पर गहरा असर पड़ता है। एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के एक और शोधकर्ता मैथ्यू जिराड्यू के मुताबिक वैज्ञानिकों को हर प्रजाति के जंगली जीवों में कैंसर मिला है। मैथ्यू के अनुसार, जंगल की पारिस्थितिकी पर इंसानों का जबरदस्त प्रभाव पड़ा है। इससे वो पूरी तरह बदल गया है और जंगली जानवर बीमारियों की जद में आ रहे हैं।

Related Post

लव में सेक्स धोखा नहीं…

Posted by - April 2, 2018 0
निचली अदालत से सजा पाए व्‍यक्ति को बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने बरी किया प्रेमिका ने शादी का झांसा देकर बलात्‍कार करने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *