आप जो खा रहे हैं वो सेहत के लिए कितना है फायदेमंद !

183 0

लखनऊ। आज हर कोई अपनी लाइफ में इतना बिजी है कि वो खुद अपनी सेहत पर ध्यान नहीं दे पा रहा है। लोगों के लिए स्वस्थ रहना अब बहुत बड़ी चुनौती बन चुका है। इसकी एक बड़ी वजह है हमारा खान-पान। हमें पता ही नहीं होता कि हमारी सेहत के लिए क्या खाना अच्छा है और क्या नहीं। बता दें कि हम जो खाते हैं, उनका हमारी सेहत से बेहद करीबी रिश्ता है। हमारे शरीर के लिए फैट,  कैलोरी और शुगर तीनों ही चीजें जितनी फायदेमंद हैं, उतनी ही नुकसानदेह भी। इनकी संतुलित मात्रा जहां हमें फायदा पहुंचाती है, वहीं इनका ज्यादा सेवन शरीर को नुकसान भी पहुंचाता है। एक अध्‍ययन में बताया गया है कि समान कैलोरी वाली सभी चीजें एक जैसी नहीं होती हैं। कुछ हमारे शरीर को अधिक नुकसान पहुंचाती हैं। आइए जानते हैं कैसे –

–    ज्यादा चीनी युक्त ड्रिंक्स में पाई जाने वाली कैलोरी की मात्रा, ज्यादा तली-भुनी चीजों के मुकाबले कहीं ज्यादा नुकसान पहुंचाती है।

–    शोधकर्ताओं का कहना है कि ड्रिंक्स में मौजूद नुकसानदायक पदार्थों की अधिकता कार्डियोवैस्कुलर और टाइप-2 मधुमेह जैसी बीमारियों का कारण बनती है।

–    इसके अलावा समान मात्रा में पॉलीअनसैचुरेटेड फैट और सैचुरेटेड फैट खाने से स्वास्थ्य पर अलग-अलग प्रभाव पड़ते हैं।

–    सैचुरेटेड फैट कार्डियोवैस्कुलर बीमारी का खतरा बढ़ाता है, जबकि पॉलीअनसैचुरेटेड फैट खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है।

कैलोरी

 

एक आलू और एक कोल्ड ड्रिंक में कैलोरी की समान मात्रा पाई जाती है, लेकिन आलू से जहां आपको फाइबर, विटामिन और पोटैशियम प्राप्त होता है वहीं कोल्ड ड्रिंक में ये नहीं मिलता। इसी तरह खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले फैट और शुगर समान नहीं होते हैं। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि कुछ कैलोरी, विशेष रूप से ड्रिंक्स दूसरे खाने के मुकाबले हमारे स्वास्थ्य के लिए अधिक हानिकारक हो सकते हैं जिसकी वजह से बीमारी का खतरा हो सकता है।

फैट

बादाम और लाल मीट में कैलोरी की मात्रा सामान्य होती है, लेकिन लाल मीट हमारी सेहत के लिए हानिकारक होता है। लाल मीट में सैचुरेटेड फैट ज्यादा मात्रा में पाया जाता है जो आपके खून में एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा सकता है। इससे हृदय रोग होने का खतरा बढ़ जाता है। वहीं, दूसरी तरफ बादाम में पॉलीअनसैचुरेटेड फैट पाया जाता है, जो बीमारी का खतरा कम कर देता है। यही कारण है कि भले ही लाल मीट और बादाम में कैलोरी की मात्रा समान हो लेकिन सेहत के लिए बादाम ज्यादा फायदेमंद है।

शुगर

Gala apple on white background

 

 

 

 

 

 

 

 

आज के समय में लोग फल खाने से ज्यादा जूस पीना पसंद करते हैं। उन्हें लगता है कि जूस पीने से ज्‍यादा एनर्जी मिलती है। लेकिन आपको बता दें कि जूस पीने के मुकाबले पूरा फल खाना सेहत के लिए ज्यादा अच्छा है। एक फल में आपको जूस की तुलना में कहीं ज्यादा फाइबर और पोषक तत्व मिलते हैं, जो जूस में नष्ट हो जाते हैं। यही नहीं, जूस पीने से रक्‍त में शुगर का लेवल भी अधिक हो जाता है जो सेहत के लिए हानिकारक है।

क्या कहते हैं डायटीशियन

डायटीशियन नेहा पुंडीर बताती हैं कि ऐसे बहुत से खाद्य पदार्थ होते हैं, जिनमें कैलोरी की मात्रा सामान्य होती है लेकिन जरूरी नहीं कि वो खाद्य पदार्थ हमारे लिए फायदेमंद ही हो। जैसे एक मध्‍यम आकार के आलू (150 कैलोरी) और कोल्ड ड्रिंक (150 कैलोरी) में कैलोरी तो समान है, लेकिन सेहत के लिए आलू ज्यादा फायदेमंद है। इसी तरह जूस (100 कैलोरी) से बेहतर है कि हम एक साबूत फल (100 कैलोरी) खाएं क्योंकि फल खाने से हमारी शरीर को फाइबर मिलता है जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद है।

अब आइए बताते हैं कि किन चीजों में कितनी कैलोरी मिलती हैं –

100 ग्राम जलेबी – 465 कैलोरी

दो कचौड़ी – 276 कैलोरी

एक समोसा – 252 कैलोरी

एक खस्ता – 240 कैलोरी

ऊपर बताई गई चीजें हम अक्‍सर खाते हैं, मगर इनसे मिली कैलोरी बर्न करने के लिए हम दिनभर बिना कुछ खाए वर्कआउट करते हैं। ऐसा करना हमारी सेहत के लिए कितना ठीक है ? इस बारे में न्यूट्रिशनिस्‍ट सचिन श्रीवास्तव का कहना है कि सुबह हेवी नाश्ता करना सेहत के लिए काफी अच्छा होता है, लेकिन उस नाश्ते में जितनी कैलोरी हम लेते हैं उसे बर्न करने के लिए दिनभर कुछ नहीं खाना ठीक नहीं है। वो कहते हैं कि वर्कआउट करना अच्छा है, मगर थोड़ी-थोड़ी देर पर कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए। इससे शरीर को ऊर्जा मिलती रहती है।

Related Post

16 महीनों में 75 जिलों का दौरा करने वाले पहले सीएम बने योगी आदित्यनाथ

Posted by - August 1, 2018 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  उत्तर प्रदेश के ऐसे पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं जिन्होंने अपने अबतक के 16 महीनों के…

रिसर्च : 6 राज्‍यों में मुस्लिम परिवारों में बच्‍चों का औसत हिंदुओं से ज्‍यादा

Posted by - August 2, 2018 0
लखनऊ। एक आम धारणा है कि मुस्लिम परिवारों में औसतन 8-10 बच्‍चे होते हैं। 2011 की जनसंख्‍या के आंकड़ों के…

राहुल-हार्दिक की हुई सीक्रेट मीटिंग, पाटीदार नेता ने रखीं ये 3 शर्तें!

Posted by - October 24, 2017 0
पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की होटल ताज में हुई मुलाकात पर संशय बना हुआ है.…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *