NIPAH : केरल के बाद तमिलनाडु, मुंबई-गोवा में भी अलर्ट, बचाव के ये हैं तरीके

68 0
  • केरल में नीपा वायरस से मरने वालों की संख्‍या हुई 12, इनमें एक नर्स भी शामिल

नई दिल्ली। केरल के कोजीकोड में नीपा नाम के वायरस से एक दर्जन लोगों की मौत के बाद हड़कंप मचा है। केरल में इस वायरस के कारण मरने वालों की संख्‍या 9 से बढ़कर 12 हो गई है। मरने वालों में एक नर्स भी है। इसके बाद अब तमिलनाडु, मुंबई और गोवा में भी वायरस से सावधान रहने का अलर्ट जारी किया गया है और अस्पताल भी इसके लिए तैयार हो रहे हैं। वजह ये है कि इस वायरस से बचने का कोई टीका अब तक नहीं आया है। साथ ही नीपा वायरस इतना खतरनाक है कि इससे पीड़ित व्यक्ति का बचना नामुमकिन हो जाता है।

1998 में हुई थी पहचान
वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानी डब्ल्यूएचओ के मुताबिक नीपा वायरस से जानवरों और इंसानों को खतरा होता है। इस वायरस की पहचान 1998 में मलेशिया और सिंगापुर में हुई थी। उस वक्त इस वायरस को सुअरों में पाया गया था, जिनसे ये इंसानों तक पहुंचा था। उस वक्त 265 लोग नीपा से पीड़ित मिले थे। जिनमें से 40 फीसदी की हालत बहुत ही गंभीर हो गई थी। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक नीपा वायरस टेरोपोडीडे फैमिली और टेरोपस जीनस का है।

कैसे फैलता है नीपा वायरस ?
नीपा वायरस फैलाने का मुख्य स्रोत चमगादड़ होते हैं। इसके अलावा सुअरों और इंसानों के बीच भी ये तेजी से फैलता है। साल 2004 में देखा गया था कि जिन इंसानों ने खजूर खाया या उसका रस पीया, उन्हें भी इस वायरस ने अपनी चपेट में ले लिया था। वजह ये थी कि खजूर को चमगादड़ों की एक प्रजाति भी खाती थी। वहीं, बांग्लादेश में पाया गया कि इंसानों से इंसानों में भी ये वायरस फैल जाता है।

नीपा वायरस के लक्षण
डब्ल्यूएचओ के एक्सपर्ट्स के मुताबिक नीपा वायरस हवा से नहीं फैलता, लेकिन इससे अगर किसी इंसान में ये वायरस आ जाए तो दूसरा इंसान भी इस वायरस से पीड़ित हो जाता है।

वायरस पीड़ित इंसान का क्या होता है ?
जिस इंसान या जानवर में नीपा वायरस पैर पसार लेता है, उसे तेज बुखार आता है और दिमाग में सूजन आ जाती है। रोगी अनाप-शनाप बातें करने लगता है। ध्यान न देने पर 24 से 48 घंटे में मरीज कोमा में चला जाता है। इसके अलावा सांस लेने में दिक्कत भी इस वायरस से ग्रस्त होने की निशानी है। अगर किसी में ऐसे लक्षण दिख रहे हों, तो तुरंत उसे पास के अस्पताल ले जाएं।

नीपा वायरस का इलाज क्या ?
नीपा वायरस से बचने का अब तक कोई टीका नहीं बना है। इससे ग्रस्त मरीज को अस्पताल में ही इंटेंसिव केयर यूनिट में रखना पड़ता है।

खजूर मत खाएं
अगर किसी इलाके में नीपा वायरस की पहचान हो जाए, तो खजूर न खाएं और उसका रस भी न पीएं। इसके अलावा मरीज के आस-पास ज्यादा न रहें। ऊपर बताए गए लक्षण दिखें, तो मरीज को तुरंत अस्पताल में दाखिल कराना जरूरी है। इसके अलावा सुअरों, चमगादड़ वगैरा से भी दूरी बनाए रखने की खास जरूरत होती है। इसके अलावा बचाव के लिए मास्क और दस्ताने पहनने चाहिए।

Related Post

पेट्रोल की टेंशन खत्म, देश में लॉन्च हुआ सबसे महंगा स्कूटर

Posted by - June 7, 2018 0
टू-व्हीलर बनाने वाली भारतीय कंपनी एथर एनर्जी ने लांच किए इलेक्ट्रिक स्‍कूटर के दो मॉडल नई दिल्ली। टू-व्हीलर बनाने वाली…

तो भैरहवा मेडिकल कॉलेज के मालिकानों में हैं अंडरवर्ल्ड के लोग भी ?

Posted by - April 3, 2018 0
भारतीय छात्रों के उत्पीड़न मामले में भारतीय दूतावास ने मेडि‍कल कॉलेज प्रशासन से किया जवाब तलब शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’…

पूर्वोत्तर में लहराया भगवा, भाजपा की जीत से आसान हुई 2019 की राह

Posted by - March 4, 2018 0
त्रिपुरा में जबर्दस्त प्रदर्शन से इतिहास रचते हुए भाजपा ने वामदलों का गढ़ ध्वस्त किया मेघालय में एनपीपी के नेतृत्व…

दूसरी प्रेगनेंसी में मीरा को करना पड़ रहा है इन दिक्कतों का सामना

Posted by - May 16, 2018 0
नई दिल्‍ली: शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की जोड़ी बॉलीवुड की परफेक्ट कपल जोड़ी है। शाहिद,भले ही बॉलीवुड एक्टर हो लेकिन…

गुजरात में ‘कमल’ को नहीं उखाड़ पाया ‘हाथ’, हिमाचल प्रदेश भी ‘पंजे’ से निकला

Posted by - December 18, 2017 0
गुजरात में 22 साल से बीजेपी की सरकार, लगातार छठी बार मिला पार्टी को पूर्ण बहुमत हिमाचल में बीजेपी के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *