कर्नाटक का असर : 15 महीने बाद गोवा में सरकार बनाने का दावा पेश करेगी कांग्रेस

38 0
  • कांग्रेस बोली – गोवा, मणिपुर व मेघालय में भी लागू हो ‘कर्नाटक मॉडल’, सबसे बड़ी पार्टी को मिले मौका
  • बिहार में राजद भी करेगा सरकार बनाने का दावा पेश, विधायकों संग राज्‍यपाल से मिलेंगे तेजस्‍वी यादव

नई दिल्लीकर्नाटक में राज्यपाल द्वारा सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्‍योता देने के बाद अब कांग्रेस ने गोवा, मणिपुर और मेघालय में भी राज्यपाल से ऐसा ही करने की मांग की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार (17 मई) को कहा कि ‘कर्नाटक मॉडल’ के आधार पर गोवा, मणिपुर और मेघालय के राज्यपाल द्वारा भी वहां की सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का मौका दिया जाना चाहिए। बता दें कि इन तीनों राज्यों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है। उधर, बिहार के पूर्व उप मुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने कहा है कि राज्‍य में सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण उन्‍हें भी सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए।

गोवा में आज राज्‍यपाल से मिलेंगे कांग्रेस विधायक

कर्नाटक में येदियुरप्‍पा के सीएम पद की शपथ लेने के बाद गोवा कांग्रेस ने गुरुवार को फैसला किया कि सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण वह राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। ये फैसला कांग्रेस ने गोवा में बीजेपी सरकार के गठन के 15 महीने बाद लिया है। कांग्रेस विधायक दल के नेता चंद्रकांत कावलेकर ने कहा कि पार्टी शुक्रवार को सभी 16 विधायकों के हस्ताक्षर वाला पत्र राज्यपाल मृदुला सिन्हा को देकर सरकार बनाने का दावा पेश करेगी।

गोवा में किसके पास कितने विधायक ?

गोवा विधानसभा में 40 सीटें हैं। 2017 में हुए चुनाव में बीजेपी को 13 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। बीजेपी ने चुनाव के बाद गठबंधन कर लिया और गोवा की गवर्नर मृदुला सिन्हा ने गठबंधन को शपथ दिलाई थी। बीजेपी ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी के 3, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के 3 और 2 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई थी। कांग्रेस को चुनावों में 17 सीटों पर जीत मिली थी और वो सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी, लेकिन उसके पास बहुमत से कम सीटें थीं।

बिहार में राजद भी करेगा सरकार बनाने का दावा पेश

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और राजद नेता तेजस्वी यादव ने गुरुवार को कहा कि अगर कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का मौका दिया गया है तो बिहार में भी हमें सरकार बनाने का मौका दिया जाना चाहिए। हम बहुमत साबित कर देंगे। उन्होंने कहा कि शुक्रवार (18 मई) को राज्यपाल सत्यपाल मलिक से दोपहर 1 बजे सभी विधायकों के साथ मुलाकात कर पार्टी का पक्ष रखेंगे। तेजस्वी ने कहा, ‘हम राष्ट्रपति से मांग करते हैं कि वो राज्यपाल को बिहार के जनादेश का चीरहरण कर चोर दरवाजे से बनी सरकार को बर्खास्त करने का निर्देश दें और सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण दें।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *