रोड रेज केस में सिद्धू पर जुर्माना, हत्या के मामले में SC ने किया बरी

26 0

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने 1988 के गैर इरादतन हत्या के केस में पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को बरी कर दिया है। हालांकि, कोर्ट ने सिद्धू को दोषी ठहराया है। रोड रेज मामले में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जे. चेलमेश्वर ने सिद्धू पर 1 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। बता दें कि पंजाब सरकार ने कोर्ट से मांग की थी कि सिद्धू को कड़ी सजा दी जाए।

क्या है मामला ?
ये घटना 27 दिसंबर 1988 की है। उस तारीख को सिद्धू और रुपिंदर सिंह संधू पटियाला में शेरनवाला गेट चौराहे के पास अपनी गाड़ी में बैठे थे। उस गुरनाम सिंह और उनके दो साथी बैंक से रुपए निकालकर लौट रहे थे। आरोप था कि गुरनाम सिंह ने सिद्धू से रास्ता देने लिए कहा, लेकिन सिद्धू और संधू ने इनकार कर दिया। इसे लेकर दोनों पक्षों में कहा सुनी हो गई। सिद्धू पर आरोप था कि उन्होंने गुरनाम सिंह की जमकर पिटाई की। इसके बाद गुरनाम की इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

ट्रायल कोर्ट ने सिद्धू को किया था बरी
1999 में ट्रायल कोर्ट ने इस मामले में हार्ट अटैक को गुरनाम सिंह की मौत का कारण मानते हुए सिद्धू और संधू को बरी कर दिया था। हालांकि 2006 में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने इस फैसले को पलट दिया और दोनों को 3 साल की सजा सुनाई। सिद्धू ने इस सजा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने साल 2007 में हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी थी। इसके बाद ही सिद्धू ने अमृतसर से चुनाव लड़ा था।

पंजाब सरकार चाहती थी कड़ी सजा दिलवाना
बता दें कि इस मामले में पंजाब की सरकार सिद्धू को कड़ी सजा दिलवाना चाहती थी। रोडरेज मामला पंजाब सरकार बनाम सिद्धू का था। इस मामले में पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट में पंजाब सरकार ने दलील दी थी कि गुरनाम सिंह की मौत सिद्धू की पिटाई की वजह से ही हुई। ऐसे में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखते हुए सिद्धू को कड़ी सजा दी जाए।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *