आंधी-तूफान से देश में मृतकों की संख्या हुई 70, यूपी में 43 मौतें, आज भी अलर्ट

39 0

नई दिल्‍ली। कुदरत के कहर ने रविवार (13 मई) को उत्तर भारत के कई राज्यों में कोहराम मचा दिया है। उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और देश के कई अन्‍य हिस्‍सों में रविवार देर शाम आए आंधी-तूफान और बारिश में मृतकों की संख्‍या बढ़कर 70 हो गई है। अकेले उत्तर प्रदेश में 43 लोगों की जान चली गई। मौसम विभाग ने अगले दो-तीन दिन के लिए फिर अलर्ट जारी किया है।

सबसे ज्‍यादा मौतें यूपी में

उत्तर प्रदेश में रविवार को आए तूफान में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 पहुंच गई है। सबसे ज्‍यादा 6 मौतें कासगंज में हुईं। इसके अलावा बाराबंकी व बरेली में 5-5, बुलंदशहर व लखीमपुर खीरी में 3-3, गाजियाबाद, सहारनपुर व प्रतापगढ़ 2-2 लोगों की जान गई। वहीं आंध्र प्रदेश में बारिश-तूफान से मरने वालों का आंकड़ा 12 पहुंच गया है।

बाल-बाल बचीं हेमा मालिनी, काफिले के आगे गिरा पेड़

मथुरा लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद हेमा मालिनी रविवार देर रात उस समय बाल-बाल बच गईं, जब आंधी-तूफान की वजह से एक पेड़ अचानक उनके काफिले के आगे गिर गया। हेमा मालिनी एक गांव में सभा को संबोधित करने के बाद लौट रही थीं। उनके वाहन चालक ने सतर्कता दिखाते हुए पेड़ से टकराने से पहले ही ब्रेक लगाकर गाड़ी रोक ली। सुरक्षाकर्मियों एवं कार्यकर्ताओं ने पेड़ हटाकर रास्ता साफ किया, उसके बाद हेमा का काफिला रवाना हुआ।

अगले दो-तीन दिन रहें सावधान

मौसम विभाग का कहना है कि सोमवार और आने वाले दो-तीन दिन में तूफान दोबारा लौटेगा। दिल्‍ली–एनसीआर और हरियाणा में इसकी रफ्तार 70-100 किमी प्रति घंटा हो सकती है। इनके अलावा यूपी, उत्‍तराखंड और झारखंड समेत 10 राज्‍यों में तूफान से अलर्ट जारी किया गया है। इन सभी राज्‍यों में प्रशासन को सावधान रहने को कहा गया है। मंडलायुक्‍त और जिलाधिकारियों को किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है।

Related Post

शिवसेना का हमला – यूपी निकाय चुनाव में जिसे ईवीएम चाहेगी वही जीतेगा

Posted by - November 23, 2017 0
नई दिल्ली: केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना लगातार सरकार पर हमले कर रही है. उत्तर प्रदेश में…

असम के बाद अब झारखंड और यूपी में पाक और बांग्लादेशी घुसपैठियों की होगी पहचान

Posted by - August 13, 2018 0
रांची/मेरठ। असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी बनने और 40 लाख लोगों के इस रजिस्टर में शामिल न होने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *