यरूशलम में यूएस दूतावास के उद्घाटन से पहले हिंसक संघर्ष, 37 फिलिस्तीनियों की मौत

35 0
  • इजरायली सेना ने गाजा सीमा पर जुटे प्रदर्शनकारियों पर की गोलीबारी, 500 से अधिक घायल
  • तेल अवीव की जगह यरूशलम में अमेरिकी दूतावास खोलने का विरोध कर रहे हैं फिलिस्‍तीनी

यरूशलम। यरूशलम में सोमवार (14 मई) को अमेरिकी दूतावास के उद्घाटन से पहले ही गाजा पट्टी में हिंसक संघर्ष हो गया। इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 37 फिलिस्तीनी मारे गए और 500 से अधिक घायल हो गए। मारे गए लोगों में 14 वर्षीय एक बच्चा भी है। इजरायली सेना ने आरोप लगाया है कि गाजा में सत्तासीन हमास ने प्रदर्शनकारियों को बॉर्डर क्रॉस करने के लिए उकसाया, जिसके बाद उन्हें रोकने के लिए सेना को गोलीबारी करनी पड़ी।

यरूशलम में अमेरिकी दूतावास का विरोध

बता दें कि फिलिस्तीनी यरूशलम में अमेरिकी दूतावास खोलने का विरोध कर रहे हैं। सोमवार को हजारों प्रदर्शनकारी गाजा सीमा पर विरोध करते हुए पहुंच गए। कुछ लोग पथराव करते हुए बाड़ के समीप पहुंच गए और उसे पार करने की कोशिश करने लगे। वहां इजरायली सुरक्षाकर्मियों ने मोर्चा संभाल रखा था। इजराइली सेना ने कहा, ‘करीब 1000 हिंसक उपद्रवी गाजा पट्टी सीमा के समीप जगह-जगह जमा थे। वे सैनिकों पर पथराव करने के अलावा बोतलों में आग लगाकर उनके ऊपर फेंक रहे थे। सेना की चेतावनी के बावजूद जब प्रदर्शनकारी नहीं रुके तो सेना ने उनके ऊपर फायरिंग कर दी। गोलीबारी में 37 फिलिस्तीनीयों की मौत हो गई और 500 से ज्‍यादा लोग घायल हो गए।

ट्रंप ने यरूशलम को दी थी मान्‍यता

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल 6 दिसंबर को यरूशलम को इजराइल की राजधानी के रूप में मान्यता दी थी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कड़ी आलोचना के बाद भी ट्रंप ने यरुशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर प्रमाणित करते हुए अमेरिकी दूतावास को वहां स्थानांतरित करने की घोषणा की थी। अमेरिकी दूतावास को यरुशलम ले जाने के लिए 14 मई, 2018 की तारीख तय की गई थी। बता दें कि इसी दिन इजरायल का स्वतंत्रता दिवस है।

दूतावास के उद्घाटन के लिए पहुंचा अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल

यरूशलम में अमेरिकी दूतावास का उद्घाटन करने के लिए अमेरिकी उपविदेश मंत्री जॉन सुल्लिवान की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल इजरायल पहुंच गया है। इस प्रतिनिधिमंडल में ट्रंप की बेटी इवांका, उनके पति जारेड कुशनर, वित्त मंत्री स्टीवन न्यूचिन भी शामिल हैं। रविवार को इजराइली प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने प्रतिनिधिमंडल का स्वागत किया था।

Related Post

संविधान के अनुच्छेद 35-A पर अब अगले साल सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

Posted by - August 31, 2018 0
नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने संविधान में जम्मू-कश्मीर से संबंधित अनुच्‍छेद 35-A पर सुनवाई एक बार फिर टाल दी है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *