दारुल उलूम ने दिया फतवा – बिना जरूरत सीसीटीवी लगवाना हराम

98 0

देवबंद। देश के प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने एक और नया फतवा जारी किया है, जिसने विवाद को जन्‍म दे दिया है। इस फतवे में दारुल उलूम ने कहा है कि इस्लाम में बिना जरूरत सीसीटीवी कैमरा लगाना नाजायज और गैर-इस्लामिक है। यह फतवा महाराष्ट्र के एक परिवार के सवाल पर जारी किया गया।

क्‍यूं जारी हुआ फतवा ?

दरअसल,  महाराष्ट्र निवासी व्‍यापारी अब्दुल माजिद ने दारुल उलूम के इफ्ता विभाग से सवाल कर पूछा था कि क्या भीड़ वाले क्षेत्र में अपने मकान और दुकान पर सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरे लगाए जा सकते हैं ? जवाब में दारुल उलूम के मुफ्ती महमूद हसन, मुफ्ती हबीबुर्रहमान और मुफ्ती वक्कार अली ने फतवा जारी कर कहा कि मकान व दुकान की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने के अलावा कई दूसरे जायज तरीके इस्तेमाल किए जा सकते हैं। चूंकि सीसीटीवी कैमरे लगाने से तस्वीरें कैद होती हैं और इस्लाम धर्म में बिना जरूरत तस्वीरें खिंचवाना सख्त मना है, इसलिए ये पूरी तरह नाजायज काम है।

उलेमा ने फतवे को सही ठहराया

वहीं, देवबंद उलेमा मुफ्ती अहमद गोड ने फतवे का समर्थन करते हुए कहा कि दारुल उलूम का फतवा बिल्कुल सही है। वह कहते हैं कि सीसीटीवी कैमरे को लेकर दारुल उलूम के फतवे के मायने ये हैं कि आप अपने घर की हिफाजत के लिए कुछ अलग कर सकते हैं, दुकान की हिफाजत भी इसी प्रकार कर सकते हैं, लेकिन किसी को ऐसी जगह सीसीटीवी कैमरे लगाने की जरूरत नहीं है जहां किसी को परेशानी हो। उन्होंने कहा कि दारुल उलूम ने जो फतवा दिया है वह शरीयत की रोशनी में सोच-समझकर दिया है, इसलिए उसको हमें मानना चाहिए। दरअसल, दारुल उलूम जो बात करता है वह तमाम चीजों को सामने रखकर करता है। सीसीटीवी कैमरे लगवाना, बिना जरूरत इफरा और तफरीद करना जायज नहीं है। फिजूलखर्ची करना शरियत में मना है।

पहले भी जारी हुए हैं विवादित फतवे

बता दें कि दारुल उलूम, देवबंद पहले भी कई विवादित फतवे जारी कर चुका हैं। 2018 की शुरुआत में ही दारुल उलूम ने फतवा जारी कर मुस्लिम महिलाओं के चमकीले और चुस्त कपड़े पहनने को हराम बताया था। वहीं, मेरठ की एक 15 साल की बच्ची के श्रीमद्भगवद्गीता के श्लोक का पाठ करने पर भी फतवा जारी किया गया था। एक फतवे में कहा गया था कि ऐसे परिवारों में शादी करना हराम है, जहां लोग बैंक में काम करते हों। यही नहीं, दारुल उलूम ने फतवा जारी कर जीवन बीमा पॉलिसी लेने को भी  हराम बताया था।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *