OMG : रात में लिये सात फेरे और सुबह आशिक संग हुई फरार

105 0
  • बाराती सुबह तक दुल्हन की विदाई की प्रतीक्षा करते रहे, बिन दुल्हन बैरंग लौटे दूल्हे राजा               

शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’

महराजगंज। कहा जाता है – ‘भूख न जाने जूठी भात, प्यास न जाने धोबी घाट, नींद न जाने टूटी खाट और इश्क न जाने जात-पात….;। जब इश्क परवान चढ़ता है तो लोग क्या-क्या कर गुजरते हैं, इसको सोच पाना बड़ा मुश्किल होता है। जी हां, यह सच है। महराजगंज जिले के एक गांव में शादी में दूल्‍हे के साथ सात फेरे लेने के बाद सुबह होते ही दुल्हन अपने आशिक के साथ फरार हो गई।

पूरे विधि-विधान से हुई थी शादी

यह घटना जिले के नौतनवा थानाक्षेत्र के एक गांव की है। बीते बुधवार (9 मई) को दूल्हे राजा सज-धजकर बैण्ड बाजे के साथ घोड़ी पर चढ़कर अपनी बारात लेकर दुल्‍हन के घर पहुंचे। बाराती भी पूरे जोश के साथ बैण्ड बाजे की धुन पर नाचते गाते द्वारपूजा में शामिल हुए। कन्या पक्ष ने पूरे रीति-रिवाज के साथ बारातियों का स्वागत किया। चारों तरफ खुशियों की बारिश हो रही थी। रात में पंडितजी ने वैदिक मन्त्रोच्चार के बीच पूरे विधि-विधान से शादी सम्पन्न कराई। सालियों की हंसी-ठिठोली के बीच अग्नि को साक्षी मानकर दूल्हे राजा ने अपनी दुल्हनिया के साथ सात फेरे भी लिये और ताउम्र एक-दूसरे के साथ रहने की कसमें खाईं।

सुबह होते ही उड़े सभी के होश

शादी संपन्‍न होने के बाद लड़की के घरवाले उसकी विदाई की तैयारियों में जुटे थे। कन्या के भाई-भाभी, माँ-बाप, बहनें, बुआ, मौसी आदि विदाई की बात सोच कर ही रुआंसे हो रहे थे। लेकिन जब सुबह हुई तो सबके होश उड़ गए। पता चला कि दुल्हन अपने आशिक के साथ घर से फरार हो गई थी। इसके बाद तो लड़की वालों के घर में खामोशी का पहरा बैठ गया।

शादी से खुश नहीं थी लड़की

बताया जा रहा कि पहले से ही किसी युवक के साथ लड़की का प्रेम संबंध था। वह घर वालों की ओर से तय किए गए इस रिश्ते से काफी नाखुश थी, लेकिन उसका बहुत विरोध नहीं कर पाई। जब दरवाजे पर बारात आ गई तो वह दूल्हे के साथ सात फेरे लेने को मजबूर हो गई, लेकिन रात के आखिरी पहर जब शादी का कार्यक्रम संपन्‍न हो गया तो मौका मिलते ही मोबाइल से अपने प्रेमी से बात की और उसके साथ फरार हो गई। हालांकि जाने से पहले उसने ससुराल की तरफ से दिए गए गहने और कपड़े उतार कर घर पर ही रख दिए थे।

बिना दुल्‍हन लिये लौटी बारात

बाराती सुबह तक दुल्हन की विदाई का इंतजार करते रहे,और कन्या पक्ष लड़की को ढूंढता रहा, लेकिन उसका कहीं सुराग नहीं मिला। अंत में सुलह-समझौते की नौबत आई, जिसके बाद दूल्हे राजा को बिना दुल्हनिया लिए बारातियों संग बैरंग घर लौटना पड़ा। इस संबंध में नौतनवा पुलिस का कहना है कि मामला संज्ञान में आया है, लेकिन किसी पक्ष से कोई तहरीर नहीं मिली है। अगर तहरीर मिलती है तो नियमानुसार कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Related Post

शेख हसीना की हत्या का प्रयास मामले में 11 लोगों को 20 साल जेल

Posted by - October 30, 2017 0
ढाका: बांग्लादेश की एक अदालत ने 28 साल पहले प्रधानमंत्री शेख हसीना के पारिवारिक आवास पर उनकी हत्या की कोशिश करने वाले 11…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *