Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

गांधी, नेहरू पर कमेंट कर फंसे आप नेता आशुतोष, होगी एफआईआर

70 0
  • दिल्‍ली की रोहिणी कोर्ट की एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट एकता गाबा ने दिया आदेश

नई दिल्ली। राष्‍ट्रपिता महात्मा गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और अटल बिहार वाजपेयी पर अभद्र टिप्‍पणी करना आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष को महंगा पड़ गया है। उनके खिलाफ रोहिणी कोर्ट की एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट एकता गाबा ने एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आशुतोष के खिलाफ आईपीसी की धारा 292 और 293 के तहत केस दर्ज करने का आदेश दिया। ये दोनों संज्ञेय अपराध की धाराएं हैं।

क्‍या है मामला ?

आरोप है कि आशुतोष ने सितंबर 2016 में दिल्ली सरकार में तत्कालीन समाज एवं बाल विकास मंत्री संदीप कुमार की सेक्स सीडी उजागर होने के बाद महात्मा गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और अटल बिहारी वाजपेयी समेत कई अन्य नेताओं के खिलाफ एक ब्‍लॉग में अभद्र टिप्पणियां की थीं। उन्‍होंने एक ओपन लेटर भी लिखा था। इसमें दावा किया गया था कि उक्त नेताओं के महिलाओं से शारीरिक संबंध थे और वे महिलाओं के साथ सोते थे। ये पत्र फेसबुक और ट्विटर पर भी डाला गया था।

क्‍या कहा अदालत ने ?

अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट एकता गाबा ने कहा, ‘आशुतोष महात्मा गांधी की छवि को ठेस पहुंचाकर और युवाओं के दिमाग को भ्रमित करके लोगों का ध्यान हासिल करने का प्रयास कर रहे थे जो कि मेरी नजर में एक संज्ञेय अपराध है। मैंने पाया कि इस मामले में प्रथम दृष्टया भादंसं की धाराओं 292 और 293 के तहत संज्ञेय अपराध में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पर्याप्त आधार है।’ अदालत ने कहा कि आप नेता के इस कृत्य की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के तहत अनदेखी नहीं की जा सकती है। बता दें कि योगेन्द्र नामक एक व्यक्ति ने आशुतोष के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी और एफआईआर दर्ज करने का अनुरोध किया था।

Related Post

शोधकर्ताओं का दावा : स्वास्‍थ्‍य के क्षेत्र में क्रांति ला सकते हैं बायो इलेक्ट्रॉनिक उपकरण

Posted by - October 15, 2018 0
नई दिल्‍ली। दुनिया भर में लोगों की उम्र और उनको होने वाली बीमारियों के आंकड़ों में तेजी से बदलाव देखा…

पुरी के जगन्नाथ मंदिर के रहस्यमयी खजाने की चाबी गायब, मचा हड़कम्प

Posted by - June 4, 2018 0
ओडिशा हाईकोर्ट के रिटायर जज करेंगे मामले की जांच, तीन महीने में देंगे अपनी रिपोर्ट भुवनेश्वर। ओडिशा के पुरी में…

अंग्रेजों की जीत का जश्न मनाने के दौरान पुणे में दो समुदायों में हिंसा

Posted by - January 2, 2018 0
उग्र लोगों ने किया जगह-जगह प्रदर्शन, कई गाडि़यों में लगाई आग, एक की मौत पुणे। पुणे जिले में भीमा-कोरेगांव की लड़ाई…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *