पुलिस की वर्दी में दिखेंगे ट्रांसजेंडर, छत्तीसगढ़ बना ऐसा करने वाला पहला राज्य

75 0

रायपुर। लिंगभेद मिटाने की दिशा में छत्तीसगढ़ सरकार ने शानदार पहल की है। राज्य की रमन सिंह सरकार ने पुलिस में ट्रांसजेंडर्स की भर्ती का फैसला किया है। ये पहल करने वाला छत्‍तीसगढ़ देश का पहला राज्य है। इस फैसले के बाद ट्रांसजेंडर काफी खुश दिखे और कई तो रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड भी पहुंचे।

ट्रांसजेंडर्स की मदद कर रही पुलिस
छत्तीसगढ़ पुलिस ने सरकार के फैसले के बाद ट्रांसजेंडर्स को भर्ती में मदद करने के लिए वर्कशॉप करने शुरू किए हैं। इनमें ट्रांसजेंडर्स को शामिल कर भर्ती प्रक्रिया के बारे में बताया जा रहा है। आंकड़ों के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में करीब 3000 ट्रांसजेंडर्स हैं और इन्हें अन्य पिछड़े वर्ग यानी ओबीसी कैटेगरी में रखा गया है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुली राह
बता दें कि साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने अहम फैसले में ट्रांसजेंडर्स को तीसरा लिंग करार दिया था। कोर्ट ने ये भी कहा था कि ट्रांसजेंडर्स को संविधान के तहत सारे अधिकार मिलने चाहिए। अफसरों के मुताबिक, कोर्ट के आदेश से ट्रांसजेंडर्स के पुलिसबल में शामिल होने का रास्ता खुला है। उनके मुताबिक, ट्रांसजेंडर्स को पुलिस में भर्ती होने के लिए अन्य लिंगों के मुताबिक ही शारीरिक परीक्षा में पास होना होगा।

तमिलनाडु, राजस्थान में ट्रांसजेंडर को हुई थी मुश्किल
छत्तीसगढ़ पुलिस में ट्रांसजेंडर्स को शामिल करने के रमन सिंह सरकार के फैसले से राज्य में इस वर्ग के प्रतिभागी खुश हैं, लेकिन तमिलनाडु में पृथिका यशिनी मामला भी हो चुका है। वहां पृथिका ने सब इंस्पेक्टर का इम्तिहान पास किया था, लेकिन उन्हें ट्रांसजेंडर होने की वजह से नियुक्ति नहीं मिल रही थी। सब इंस्पेक्टर बनने के लिए पृथिका को लंबी कानूनी जंग लड़नी पड़ी। वहीं, राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल गंगा कुमारी भी लंबी कानूनी प्रक्रिया के बाद 2017 में नौकरी पा सकी थीं।

Related Post

एयरपोर्ट पर मांगा प्रेग्नेंसी का प्रूफ, नहीं दिया तो उतरवा लिये महिला के कपड़े

Posted by - June 28, 2018 0
महिला के पति ने दर्ज कराई आपत्ति, सीआईएसएफ ने चेकिंग करने वाली अफसर को हटाया गुवाहाटी। असम में एयरपोर्ट पर…

दिल्‍ली में मेट्रो स्टेशन के अंदर महिला पत्रकार से छेड़खानी

Posted by - November 17, 2017 0
नई दिल्ली । महिला सुरक्षा को लेकर सरकार लाख दावा करे, लेकिन देश की राजधानी दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित नहीं है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *