ट्विटर के सिस्टम में गड़बड़ी, 33 करोड़ यूजर्स से फौरन पासवर्ड बदलने की अपील

114 0
  • ट्विटर के सॉफ्टवेयर में बग आ जाने के कारण असुरक्षित हो गए यूजर्स के पासवर्ड

सैन फ्रैंसिस्को। ट्विटर ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए अपने करीब 33 करोड़ यूजर्स से तुरंत पासवर्ड बदलने के लिए कहा है। कंपनी ने अपने आधिकारिक हैंडल पर कहा है कि हाल ही में उसके सॉफ्टवेयर में एक बग आ गया था, जिसकी वजह से यूजर्स के पासवर्ड असुरक्षित हो गए। हालांकि, कंपनी का दावा है कि इस समस्या पर काबू पा लिया गया है। यूजर्स के डेटा से किसी तरह की छेड़छाड़ की बात सामने नहीं आई है।

क्‍या कहा ट्विटर ने ?

ट्विटर के चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर पराग अग्रवाल ने शुक्रवार को ब्लॉग पोस्ट में बताया कि चिंता की कोई बात नहीं, अब सब कुछ ठीक है। हालांकि, उन्होंने यूजर्स को पासवर्ड बदलने की सलाह दी है। ट्विटर ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘हमने हाल ही में एक बग पाया है, इस वजह से इंटरनल लॉग में संरक्षित पासवर्ड का खुलासा हो गया है। बग को ठीक कर दिया गया है और डेटा में किसी तरह की सेंध नहीं लगी है।’ कंपनी ने यूजर्स को भरोसा भी दिलाया है कि वे ऐसी कोशिश में जुटे हैं कि आगे से ऐसी समस्या का पैदा न हो सके।

पासवर्ड कैसे सुरक्षित करता है ट्विटर ?

ट्विटर इसके लिए हैशिंग नाम की तकनीक इस्तेमाल करता है। इसके जरिए असली पासवर्ड को एक कोड में बदल दिया जाता है, लेकिन एक बग की वजह से ट्विटर यूजर्स के पासवर्ड बिना कोड में बदले ही मूल रूप में सेव हो रहे थे। इसके चलते हैकर्स को पासवर्ड आसानी से पता चल सकता था और करोड़ों लोगों का डेटा खतरे में पड़ सकता था। गनीमत रही कि कंपनी ने वक्त रहते ही इस समस्या का पता लगा लिया और उसे ठीक कर लिया।

यूजर्स को सब कुछ जानना जरूरी : ट्विटर सीईओ

ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी ने कहा कि हमारे लिए जरूरी है कि हम इस अंदरूनी खराबी के बारे में खुलकर अपने यूजर्स से बात करें। उधर, कंपनी के चीफ टेक्निकल ऑफिसर पराग अग्रवाल ने कहा, ‘हम ये जानकारी यूजर्स के साथ साझा कर रहे हैं, ताकि लोग अपने अकाउंट की सुरक्षा पर फैसला ले सकें।’

Related Post

विश्‍व रक्‍तदान दिवस : रक्‍तदान करें और बीमारियों से रहें दूर

Posted by - June 14, 2018 0
लखनऊ। आज (14 जून)  को  world blood donor day  है। इस दिन  विश्व स्वास्थ्य संगठन रक्तदान के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाता है। जनमानस को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *