दिल्ली : तुगलक के दौर के मकबरे पर चढ़ाया भगवा रंग, बना दिया मंदिर

186 0

नई दिल्ली। कहा जाता है कि अयोध्या की बाबरी मस्जिद में 1948 के अगस्त महीने की एक रात को हिंदुओं ने घुसकर मूर्तियां रख दीं और इसके बाद से दो समुदायों के बीच शुरू हुआ विवाद अब तक चल रहा है। कुछ ऐसे ही अंदाज में दिल्ली में भी तुगलक कालीन एक मकबरे को रातों-रात मंदिर बना दिया गया।

कहां मकबरे को बनाया मंदिर ?
तुगलकालीन मकबरे को मंदिर में तब्दील करने की घटना दिल्ली के सफदरजंग एनक्लेव के हुमायूंपुर गांव में हुई। यहां गुमटी नाम का एक मकबरा था। इस मकबरे को दिल्ली सरकार ने प्राचीन स्मारक भी करार दिया था। बताया जा रहा है कि बीते मार्च महीने में एक दिन कुछ लोगों ने मकबरे को भगवा रंग में रंगा और उसके अंदर मूर्तियां रख दीं। मकबरे को नया नाम ‘शिव भोला मंदिर’ भी दे दिया गया।

पुरातत्व विभाग के नियमों का उल्लंघन
किसी भी प्राचीन स्मारक को रंगना या पोतना पुरातत्व विभाग के नियमों का उल्लंघन होता है। नियम के मुताबिक, किसी भी स्मारक में किसी तरह की पेंटिंग, उसकी दीवारों को खुरचना और पोतना मना है ताकि स्मारक का स्वरूप न बदले। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया ने कहा कि वो इस बारे में रिपोर्ट मंगा रहे हैं। मकबरे को मंदिर में बदलने की उन्हें जानकारी नहीं है। रिपोर्ट आने के बाद संबंधित विभाग को कार्रवाई के लिए लिखेंगे।

इनटैक के लोगों का हुआ था विरोध
प्राचीन स्मारकों का संरक्षण करने वाली संस्था इनटैक के प्रोजेक्ट डायरेक्टर अजय कुमार ने अंग्रेजी अखबार को बताया कि उनकी टीम मकबरे को संवारने गई थी, लेकिन स्थानीय लोगों ने खूब विरोध किया। इस पर पुलिस की मदद ली गई, लेकिन पुलिस भी कुछ नहीं कर सकी। अब पता चला है कि मकबरे को मंदिर बना दिया गया है।

बीजेपी पार्षद का हाथ ?
माना जा रहा है कि मकबरे को मंदिर में तब्दील करने में सफदरजंग एनक्लेव की बीजेपी पार्षद राधिका अबरोल फोगाट का हाथ हो सकता है। दरअसल, स्मारक के बाहर भगवा रंग वाली दो बेंच लगाई गई हैं। इनमें बीजेपी पार्षद का नाम लिखा हुआ है। इस बारे में हालांकि फोगाट ने अखबार से कहा कि मकबरे को मंदिर बनाए जाने की जानकारी उन्हें नहीं है। फोगाट के मुताबिक, बीजेपी के पूर्व पार्षद ने ऐसा किया है। उन्होंने कहा कि मैंने मकबरे को मंदिर बनाने का विरोध किया, लेकिन ये संवेदनशील मामला है। देश में जो हालात बन गए हैं, उसमें किसी मंदिर को हटाना काफी मुश्किल है।

Related Post

प्रद्युम्न मर्डर : 14 दिन और बढ़ी आरोपी छात्र की न्यायिक हिरासत

Posted by - January 4, 2018 0
आरोपी छात्र की जमानत समेत तीन याचिकाओं पर 6 जनवरी को होगी सुनवाई गुड़गांव। प्रद्युम्न हत्याकांड में बुधवार को न्यायिक…

अयोध्या में भगवान राम की सबसे बड़ी मूर्ति लगाने की तैयारी में योगी आदित्यनाथ

Posted by - October 10, 2017 0
लखनऊ: अयोध्या में रामलला के मंदिर का मसला भले ही सुप्रीम कोर्ट में अटका हो लेकिन विवादित स्थल से थोड़ी ही दूर…

सेक्स स्कैंडल में फंसी स्वीडिश एकेडमी, साहित्य के नोबेल पर संकट के बादल

Posted by - May 4, 2018 0
117 साल के इतिहास में 8वीं बार नहीं दिया जाएगा साहित्य का नोबेल, एकेडमी पर लगे गंभीर आरोप स्टॉकहोम। इस साल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *