Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

संघ प्रमुख भागवत की नसीहत – दलितों को अपने घर भी बुलाएं बीजेपी नेता

106 0

नई दिल्ली। बीजेपी ने अपने नेताओं और मंत्रियों को दलितों के घर जाकर भोजन करने और रात बिताने को कहा है। नेता इस निर्देश का पालन कर भी रहे हैं, लेकिन आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का कहना है कि सिर्फ इतने से दलितों का उद्धार नहीं होगा। भागवत ने कहा है कि नेताओं को चाहिए कि वे दलितों को भी अपने घर पर बुलाएं।

भागवत ने क्या कहा ?
संघ की एक बैठक में मोहन भागवत ने कहा कि दलितों के घर जाकर रात बिताना ही सबकुछ नहीं है। ये दोतरफा होना चाहिए। हमें दलितों को अपने घर में उसी तरह बुलाकर स्वागत करना चाहिए, जैसा वे कर रहे हैं। बता दें कि पीएम मोदी के ग्राम स्वराज अभियान के तहत बीते कुछ हफ्तों से बीजेपी के नेता और मंत्री दलितों के घर रात बिता रहे हैं। भागवत ने ये भी कहा कि अष्टमी को हम दलितों की बच्चियों को बुलाकर अपने घर पर उनकी पूजा कर लेते हैं, लेकिन अपनी बेटियों को दलितों के घर नहीं भेजते।

संघ के अन्य नेताओं ने भी रखी राय
सूत्रों के मुताबिक, संघ के अन्य नेताओं ने भी बैठक में इस पर राय रखी। एक नेता ने कहा कि अगड़ी जाति का कोई व्यक्ति अगर दलित के यहां खाना खाता है, तो इससे लगता है कि वो शख्स जातिवादी मानसिकता का और घमंडी है। उस नेता ने कहा कि हमें दलितों को घर बुलाकर परिवार का सदस्य बनाना चाहिए।

उमा भारती नहीं गईं थी भोजन करने
बता दें कि बीते दिनों केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने दलित के घर जाकर भोजन करने से इनकार कर दिया था। उमा ने कहा था कि बेहतर उस वक्त होगा, जब वो किसी दलित परिवार को अपने घर बुलाकर भोजन कराएंगी और उनके जूठे बर्तन धोएंगी। मोहन भागवत की ताजा नसीहत उमा भारती के उस बयान को और पुख्ता कर रही है।

Related Post

सुनामी से इस IAS ऑफिसर ने बचाई थी बच्ची की जान, 3 साल बाद मिलने पहुंचे तो हो गए भावुक

Posted by - December 17, 2018 0
तमिलनाडु। तमिलनाडु के IAS ऑफिसर डॉक्टर जे राधाकृष्णन को जब ध्यान आया कि वो मीनू से पिछले 3 साल से…

ज़ायरा वसीम को राष्ट्रपति ने नेशनल चाइल्ड अवॉर्ड से नवाज़ा

Posted by - November 15, 2017 0
मुंबई। फिल्म दंगल और सीक्रेट सुपरस्टार की एक्ट्रेस ज़ायरा वसीम को भारत के राष्ट्रपति ने नेशनल चाइल्ड अवॉर्ड्स से नवाज़ा…

मानव तस्करी के संदेह में बस्ती आरपीएफ ने 13 किशोरियों को पकड़ा

Posted by - June 10, 2018 0
लुधियाना के निष्‍काम सेवा आश्रम आध्‍यात्मिक शिक्षा लेने जा रही थीं किशोरियां, इनमें 9 नाबालिग किशोरियों की गिरफ्तारी से गांववाले…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *