दुनिया के 15 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 14 भारत के, कानपुर टॉप पर

137 0
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने जारी की लिस्‍ट, वर्ष 2016 के हैं आंकड़े
  • दिल्ली-लखनऊ में भी भयावह हालात, टॉप 15 शहरों में यूपी के चार शहर शामिल

नई दिल्ली। दुनिया के 15 सबसे ज्‍यादा प्रदूषित शहरों में 14 शहर भारत के हैं। ये खुलासा हुआ है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में। वर्ष 2016 की इस लिस्‍ट में कानपुर टॉप पर है और दूसरे नंबर पर है हरियाणा का फरीदाबाद। दिल्‍ली छठे नंबर पर है, जबकि लखनऊ का नंबर 7वां है। निश्‍चय ही डब्‍लूएचओ की यह लिस्ट भारत के लिए बेहद चिंता का विषय है।

भारत के लिए ये आंकड़े चिंताजनक

डब्‍लूएचओ द्वारा जारी ये आंकड़े भारत के लिए काफी चिंताजनक हैं क्‍योंकि इसमें ज्यादातर शहर उत्तर भारत के हैं। इनमें पटना, लखनऊ सहित कई शहर यूपी और बिहार के हैं। दिल्‍ली के अलावा एनसीआर इलाके में आने वाले फरीदाबाद की हालत भी प्रदूषण के मामले में बेहद खराब है और वह इस लिस्‍ट में कानपुर के बाद दूसरे नंबर पर है।

कहां कितना पीएम 2.5 लेवल ?

WHO के ताजा आंकड़े के मुताबिक, दिल्ली में पीएम 2.5 एनुवल एवरेज 143 माइक्रोग्राम प्रति क्‍यूबिक मीटर है जो नेशनल सेफ स्टैंडर्ड से तीन गुना ज्यादा है, जबकि पीएम 10 एवरेज 292 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है जो नेशनल स्टैंडर्ड से 4.5 गुना ज्यादा है। डब्ल्यूएचओ के डेटाबेस से पता चलता है कि 2010 से 2014 के बीच दिल्ली के प्रदूषण स्तर में मामूली बेहतरी हुई, लेकिन 2015 से फिर हालात बिगड़ने लगे हैं। हालांकि सेंट्रल पॉल्‍यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) का दावा है कि 2016 के मुकाबले 2017 में दिल्ली की हवा में प्रदूषण का स्तर कम हुआ है। आइए देखते हैं किस शहर में प्रदूषण का स्‍तर कितना है –

        रैंकिंग                         पीएम 2.5 लेवल          

  1. कानपुर                                173
  2. फरीदाबाद                            172
  3. वाराणसी                               151
  4. गया                                     149
  5. पटना                                   144
  6. दिल्ली                                  143
  7. लखनऊ                               138
  8. आगरा                                  131
  9. मुजफ्फरपुर                          120
  10. श्रीनगर                                 113
  11. गुरुग्राम                                113
  12. जयपुर                                 105
  13. पटियाला                              101
  14. जोधपुर                                  98
  15. अली सुबह अल सलीम (कुवैत)  94

प्रदूषण से निबटने को क्‍या कदम उठाए ?

भारत में 2016 के अंत में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए कई कदम उठाए गए। इनके तहत अक्टूबर में ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान, दिसंबर 2015 में ट्रकों पर एन्‍वायरमेंट कंपनसेशन चार्ज (ईसीसी) और प्रदूषण नियंत्रण के लिए एनसीआर के शहरों के बीच बेहतर समन्वय जैसे उपाय शामिल हैं। हालांकि इन उपायों से हालत में कितना सुधार हुआ है, इसका पता नहीं चल पाया है।

कुछ साल पहले नहीं थे ऐसे हालात

2010 की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर था जिसके बाद पेशावर और रावलपिंडी का नंबर था। उस समय दुनिया के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के अन्य शहरों में सिर्फ आगरा का ही नाम था। 2011 की रिपोर्ट में भी दिल्ली और आगरा प्रदूषित शहरों की लिस्ट में शामिल थे और उलनबटोर दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर था। 2012 में स्थिति बदलनी शुरू हुई और दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में अकेले भारत के 14 शहर शामिल हो गए। 2013, 2014 और 2015 में भी कमोबेश यही हाल रहा और दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में भारत के 4 से 7 शहर शामिल थे। अब बुधवार (2 मई, 2018) को जारी 2016 के डेटा में दुनिया के 15 सबसे प्रदूषित शहरों में 14 शहर भारत के हैं।

Related Post

अपनी विदाई पार्टी में एसपी ने हवा में तड़तड़ाईं गोलियां, तबादले पर लगी रोक

Posted by - May 2, 2018 0
विदाई समारोह में कटिहार के एसपी को महंगी पड़ी फायरिंग, CBI में प्रतिनियुक्ति रोकी गई, जांच शुरू कटिहार। बिहार के कटिहार…

‘माहवारी’ के दिनों में मंदिर जाने पर कोई रोक नहीं : महंत देव्या गिरि

Posted by - May 29, 2018 0
राजधानी के मनकामेश्वर मठ-मंदिर में ‘माहवारी : शर्म नहीं सेहत की बात’ विषय पर हुई संगोष्ठी लखनऊ। वर्ल्ड मेंस्ट्रुअल डे…

स्टडी : हार्ट अटैक से उबर चुके मरीजों को सामान्य जीवन जीने में मददगार है योग

Posted by - November 15, 2018 0
नई दिल्‍ली। भारतीय शोधकर्ताओं का कहना है कि योग के जरिए (Yaga Care) हृदय रोगियों को दोबारा सामान्य जीवन जीने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *