जस्टिस जोसेफ प्रकरण : कोलेजियम बैठक से पहले जस्टिस चेलमेश्वर छुट्टी पर गए

164 0
  • जस्टिस केएम जोसेफ की सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति को लेकर बुधवार को होनी है कोलेजियम की अहम बैठक

नई दिल्‍ली। लगता है, सरकार और न्यायपालिका के बीच जस्टिस केएम जोसेफ की सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति को लेकर विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है। सरकार द्वारा जस्टिस जोसेफ की फाइल पु‍नर्विचार के लिए कोलेजियम को लौटाने के बाद अब इस मुद्दे पर सभी की नज़रें सुप्रीम कोर्ट के कोलेजियम पर टिकी हैं। कोलेजियम इस पर चर्चा के लिए बुधवार (2 मई) को बैठक करेगा। हालांकि बताया जा रहा है कि जस्टिस चेलमेश्‍वर बुधवार को अचानक छुट्टी पर चले गए हैं, इसलिए कोजेजियम की बैठक पर संशय पैदा हो गया है।

केंद्र के फैसले से संतुष्‍ट नहीं कोलेजियम

मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम जस्टिस केएम जोसेफ की नियुक्ति रोकने से संतुष्ट नहीं है और ना ही सरकार के दिए गए तर्कों से ही सहमत है। बता दें कि केंद्र सरकार ने जस्टिस केएम जोसेफ की नियुक्ति से जुड़ी फाइल को कोलेजियम को वापस कर दिया था, जिसके बाद से ही काफी हंगामा मचा है।

क्‍या है मामला ?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल फरवरी में दो नामों को सुप्रीम कोर्ट में जज के रूप में प्रोन्‍नत करने के लिए भेजा था। इनमें से एक इंदु मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ अधिवक्ता थीं और दूसरे जज थे उत्‍तराखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस केएम जोसेफ। सरकार ने इंदु मल्होत्रा के नाम पर तो मंजूरी दे दी और पिछले शुक्रवार को उन्‍होंने कार्यभार ग्रहण कर लिया लेकिन जस्टिस जोसेफ की फाइल को फिर से विचार करने की बात कहते हुए कोलेजियम को लौटा दिया था।

क्‍या कहना है केंद्र सरकार का ?

  • वरिष्ठता के आधार पर जस्टिस केएम जोसेफ का नंबर 42वां है। अब भी हाईकोर्ट के करीब 11 जज उनसे सीनियर हैं।
  • कलकत्ता, छत्तीसगढ़, गुजरात, राजस्थान, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड और कई हाईकोर्ट के अलावा सिक्किम, मणिपुर, मेघालय के प्रतिनिधि अभी सुप्रीम कोर्ट में नहीं हैं।
  • जस्टिस केएम जोसेफ केरल से आते हैं और अभी केरल के दो हाईकोर्ट जज सुप्रीम कोर्ट में हैं।
  • अगर केरल के ही एक और हाईकोर्ट जज की नियुक्ति की जाती है तो यह सही नहीं होगा।
  • पिछले काफी समय से सुप्रीम कोर्ट में SC/ST का कोई प्रतिनिधित्व नहीं है।
  • कोलेजियम सिस्टम सुप्रीम कोर्ट का ही एक सिस्टम है।

कौन-कौन हैं कोलेजियम में ?

सुप्रीम कोर्ट के कोलेजियम में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस जे. चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ शामिल हैं। ये सभी जज बुधवार को जस्टिस केएम जोसेफ की नियुक्ति पर सरकार के जवाब पर चर्चा करेंगे।

कौन हैं जस्टिस केएम जोसेफ ?

जस्टिस केएम जोसेफ इस समय उत्‍तराखंड हाईकोर्ट के मुख्‍य न्‍यायाधीश हैं। उल्‍लेखनीय है कि वर्ष 2016 में उत्तराखंड में कांग्रेस की हरीश रावत सरकार के शासन के दौरान राजनीतिक संकट खड़ा हो गया था। इस पर मोदी सरकार ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश कर दी थी। इस फैसले के खिलाफ कांग्रेस ने हाईकोर्ट में गुहार लगाई और हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार की सिफारिश को नामंजूर कर दिया था। यह फैसला सुनाने वाले जस्टिस जोसेफ ही थे। इसी कारण राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि जस्टिस जोसेफ को उसी फैसले की सजा मिली है।

कॉलेजियम ने फाइल दोबारा भेजी तो क्‍या होगा?

बड़ा सवाल यह उठता है कि यदि कोलेजियम ने सरकार की आपत्तियों के बावजूद सुप्रीम कोर्ट के लिए जस्टिस जोसेफ के नाम की फिर से सिफारिश की तो क्‍या होगा? आमतौर पर सरकारें कोलेजियम की सिफारिशों को मानती रही हैं। ऐसा एकाध बार ही हुआ है कि सरकारों ने कोलेजियम के सुझाए गए नाम पर आपत्ति उठाई हो। हालांकि कानून के विशेषज्ञों का कहना है कि यदि कॉलेजियम जस्टिस केएम जोसेफ के नाम को दोबारा सरकार के पास विचार के लिए भेजती है तो सरकार को इस फैसले को मानना ही होगा।

Related Post

पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, मेंढर इलाके में फायरिंग की, मोर्टार भी दागे

Posted by - October 18, 2017 0
श्रीनगर : सरहद पर पाकिस्तानी फौज ने एक बार फिर सीजफायर का उल्लंघन किया है। जम्मू-कश्मीर के मेंढर इलाके में पाकिस्तानी…

शोध : सेहत के लिए पेट्रोल-डीजल से अधिक सुरक्षित है सीएनजी

Posted by - June 29, 2018 0
लखनऊ। प्रदूषण नियंत्रण के लिए वाहनों में कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस (CNG) के बढ़ते उपयोग के साथ-साथ इसके दुष्प्रभावों को लेकर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *