Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

प्रोविडेंट फंड का पोर्टल हैक, 2.7 करोड़ लोगों का डेटा चोरी, EPFO ने किया इनकार

93 0

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की वेबसाइट से 2.7 करोड़ लोगों के पर्सनल और प्रोफेशनल डेटा चोरी होने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि ईपीएफओ की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड तकरीबन 2.7 करोड़ लोगों की जानकारी लीक हो गई है। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय को लिखे गए एक पत्र के मुताबिक, हैकर्स ने EPFO के आधार सीडिंग पोर्टल से डेटा चुराया है। हालांकि EPFO ने डाटा चोरी होने से इनकार किया है।

बीते एक साल में 114 सरकारी वेबसाइट हैक

मार्च महीने में इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय की तरफ से लोकसभा में दिए जानकारी के अनुसार, अप्रैल 2017 से लेकर जनवरी 2018 के बीच कुल 114 सरकारी वेबसाइट हैक की गईं। गौरतलब है कि 6 अप्रैल को रक्षा, गृह और कानून मंत्रालय वगैरह की वेबसाइटों को हैक करने की खबरें आईं, लेकिन सरकार ने उनको हार्डवेयर की समस्या बताकर खारिज कर दिया था।

EPFO ने ऑनलाइन सामान्य सेवा केंद्र की सेवाएं रोकीं

उधर, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने अपने एक ऑनलाइन सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी) के जरिये प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर रोक लगा दी है। ईपीएफओ का कहना है कि उसने सीएससी की ‘संवेदनशीलता की जांच’ लंबित रहने तक इन सेवाओं को रोका है। हालांकि, ईपीएफओ ने सरकार की वेबसाइट से अंशधारकों के डेटा लीक होने की किसी संभावना को खारिज किया है।

Related Post

गरीबी के आड़े नहीं आए सपने, कूड़ा उठाने वाले के बेटे को मिला AIIMS में एडमिशन

Posted by - July 21, 2018 0
परिंदों को मंजिल मिलेगी यक़ीनन, ये फैले हुए उनके पर बोलते हैं वो लोग रहते हैं अक्सर खामोश, ज़माने में जिनके हुनर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *