बच्चे

काम आया कोड: अगवा करने आया था शख्स, बच्ची ने खुद को लिया बचा

79 0

गाजियाबाद। आजकल बच्चों और खासकर बच्चियों के खिलाफ अपराध की बाढ़ आई हुई है। ऐसे में पैरेंट्स अपने बच्चों को बचाने के लिए तमाम तौर-तरीके तलाश रहे हैं। गाजियाबाद के इंदिरापुरम इलाके की पार्श्वनाथ मैजिस्टिक सोसायटी के रहने वाले लोगों ने एक अभिनव तरीका अपनाया है। उन्होंने खुद के कोड नंबर बनाए हैं। अगर कोई अनजान शख्स किसी बच्चे को माता या पिता के बारे में को जानकारी देकर साथ चलने को कहता है, तो बच्चे अपने माता या पिता का कोड पूछते हैं। ऐसा ही करके सोसायटी में रहने वाली एक बच्ची ने खुद को अगवा होने से बचा लिया।

क्या है मामला ?

बीते रविवार की शाम को पार्श्वनाथ मैजिस्टिक सोसायटी में रहने वाली एक बच्ची नीचे टहल रही थी। वो गेट तक जा पहुंची। तभी एक अनजान व्यक्ति उसके पास आया और बोला कि तुम्हारे पापा का एक्सिडेंट हो गया है, जल्दी चलो। बच्ची ने इस पर उस शख्स से पलटकर पूछ लिया कि मेरे पापा का कोड नंबर बताओ। इससे घबराकर वो शख्स भाग खड़ा हुआ और अगवा होने से बच्ची बच गई। पुलिस अब सीसीटीवी फुटेज के सहारे उस शख्स को तलाश कर रही है।

बच्चों को बता रखा है सेफ्टी कोड

सोसायटी में रहने वालों ने बच्चों को अपराधियों के हाथ से बचाने के लिए अपने कोड नंबर बनाए हैं। बच्चों को पैरेंट्स ने बता रखा है कि अगर कोई अनजान व्यक्ति कोई बात कहकर या बहला-फुसलाकर ले जाने की कोशिश करे, तो बच्चे उससे माता या पिता का कोड पूछें। संबंधित शख्स अगर सही कोड बताए, तभी उसके साथ जाएं। ऐसा ही करके 11 साल की बच्ची ने खुद को अपराधी के चंगुल में पड़ने से बचा लिया।

गार्ड की मिलीभगत की आशंका

दिल्ली और एनसीआर में जितनी भी सोसायटी हैं, उनमें मजबूत सुरक्षा व्यवस्था होती है। गेट पर गार्ड होते हैं। ऐसे में युवक गेट के भीतर कैसे पहुंचा और बच्ची से वो बेखौफ होकर मिला तो सवाल उठ रहे हैं। सोसायटी में रहने वालों को अंदेशा है कि युवक की किसी गार्ड से मिलीभगत है।

सीसीटीवी में नहीं दिख रहा आरोपी

सोसायटी के गार्डों के मुताबिक घटना के बाद बच्ची के पिता ने सारे सीसीटीवी फुटेज देखे, लेकिन आरोपी कहीं भी नहीं दिखा। सोसायटी के लोग कह रहे हैं कि सीसीटीवी कैमरे घटना के वक्त बंद थे। जबकि, बच्ची कह रही है कि आरोपी अगर पकड़ा जाए, तो उसका हुलिया देखकर वो पहचान लेगी।

Related Post

भ्रष्टाचार के विरुद्ध जारी रहेगी लड़ाई, मेरा कोई रिश्तेदार नहीं : मोदी

Posted by - September 25, 2017 0
प्रधानमंत्री बोले – चुनाव जीतना एकमात्र लक्ष्‍य नहीं, सत्‍ता सेवा के लिए न कि सुख के लिए नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र…

जिस मछली को आप स्वास्थ्यवर्धक मानते हैं, उसे खाने से कैंसर भी हो सकता है

Posted by - November 17, 2018 0
नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा और गुजरात से ज्यादातर मछलियां देशभर में भेजी जाती हैं। दिल्ली समेत उत्तरी और…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *