Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

विकराल हो रही है बेरोजगारी की समस्या, करीब 1 साल में 3 फीसदी तक बढ़ी

293 0
नई दिल्ली। भारत में बेरोजगारी विकराल रूप ले रही है। हालत ये है कि जुलाई 2017 से अप्रैल 2018 तक करीब 70 लाख नौकरियों की कमी हुई है।

क्या है बेरोजगारी का आंकड़ा
सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के आंकड़ों के मुताबिक जुलाई 2017 में बेरोजगारी की दर 3.39 फीसदी थी। जबकि मार्च 2018 में ये 6.3 फीसदी हो गई। अप्रैल 2018 में इसके बढ़कर 6.75 फीसदी होने का अंदेशा है।

सरकार नहीं दिखती है चिंतित
खास बात ये है कि बेरोजगारी के आंकड़े सरकार के लिए चिंताजनक नहीं हैं, लेकिन अर्थशास्त्री कह रहे हैं कि जिस तरह नई नौकरियों की कमी हो रही है, उससे आने वाले दिनों में हालात और बदतर हो सकते हैं।

ये हैं बेरोजगारी के आंकड़े
जुलाई 2017 से अक्टूबर 2017 के बीच बेरोजगारी की दर 3.39 से बढ़कर 5.04 फीसदी हो गई। नवंबर 2017 में ये दर गिरकर 4.76 फीसदी और दिसंबर 2017 में बेरोजगारी की दर 4.78 हो गई, लेकिन जनवरी 2018 से बेरोजगारी की दर ने फिर सिर उठाना शुरू कर दिया। कॉरपोरेट सेक्टर की बात करें, तो इसमें नई नौकरियों की दर में सिर्फ 2 से 3 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है।

खुद के रोजगार पर सरकार का बल
बेरोजगारी सुरसा की तरह मुंह फैला रही है। वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के मंत्री युवाओं के खुद स्वावलंबी होने पर जोर दे रहे हैं। मोदी सरकार ने हर हाथ को रोजगार के इरादे से मुद्रा योजना भी शुरू की हुई है, लेकिन इसके तहत भी हर हाथ को कर्ज नहीं मिलता है। हालांकि, अब एक और नई योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत कोई भी बैंक से हर रोज 5 हजार रुपए बतौर कर्ज ले सकेगा। इस कर्ज को दूसरे दिन चुकाने पर कोई ब्याज नहीं देना होगा।

Related Post

असम के बाद अब झारखंड और यूपी में पाक और बांग्लादेशी घुसपैठियों की होगी पहचान

Posted by - August 13, 2018 0
रांची/मेरठ। असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर यानी एनआरसी बनने और 40 लाख लोगों के इस रजिस्टर में शामिल न होने…

स्टडी से हुआ खुलासा, जो डर गया समझो मर गया वाला गब्बर का डायलॉग है सही

Posted by - September 28, 2018 0
पोर्ट्समाउथ। शोले फिल्म तो देखी ही होगी आपने। इसमें गब्बर सिंह का फेमस डायलॉग है- “जो डर गया, समझो मर गया”।…

गांवों के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की बेहद कमी, सबसे ज्यादा बड़े राज्य प्रभावित

Posted by - November 2, 2018 0
नई दिल्ली। बीते दिनों ही पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार की सबको स्वास्थ्य सेवा देने की अभिनव आयुष्मान भारत…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *