सभी गांवों में बिजली पहुंचने का दावा, लेकिन गांवों की संख्या में अंतर क्यों ?

69 0

लखनऊ। मोदी सरकार ने दावा किया है कि हर गांव तक बिजली पहुंचा दी गई है। यानी देश के किसी भी गांव के लोग अब अंधेरे में नहीं रहेंगे। सरकार का ये भी दावा है कि तय वक्त से पहले ही ये लक्ष्य उसने हासिल कर लिया है, लेकिन मोदी सरकार की ओर से दी गई गांवों की संख्या और 2011 के सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कुल गांवों की संख्या में काफी अंतर है।

मोदी सरकार ने कितनी बताई गांवों की संख्या ?
मोदी सरकार के मुताबिक मणिपुर के लेइसांग गांव में बिजली पहुंचाने के साथ ही हर गांव में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य पूरा हो गया है। इस गांव में शनिवार शाम को बिजली पहुंच गई थी। बाकायदा पीएम मोदी ने ट्वीट कर अपनी सरकार की योजना पूरी होने की जानकारी देते हुए खुशी जाहिर की थी।

2015 में शुरू हुई थी गांवों को रोशन करने की योजना
मोदी सरकार ने दावा किया है कि देश के सभी 5 लाख 97 हजार 464 गांव अब रोशन हैं। बता दें कि मोदी ने 15 अगस्त 2015 को लालकिले की प्राचीर से अगले 1000 दिन में हर गांव में बिजली पहुंचाने का वादा किया था। बता दें कि 2015 में पीएम मोदी ने हर गांव में जब बिजली पहुंचाने का वादा किया था, तब ऐसे गांवों की संख्या 18 हजार 452 थी। जब काम शुरू हुआ, तो पता चला कि और 1275 गांवों में बिजली नहीं है।

कुल गांवों की संख्या कितनी ?
मोदी सरकार ने दावा किया है कि देश के सभी 5 लाख 97 हजार 464 गांवों तक बिजली पहुंचा दी गई है, जबकि 2011 की जनगणना के आंकड़ों को देखें, तो उसमें गांवों की कुल संख्या 6 लाख 49 हजार 481 बताई गई है। इस तरह गांवों की संख्या में 52 हजार 17 गांव का अंतर आ रहा है।

Related Post

अमेठी की छात्रा के सवालों पर राहुल का एक ही जवाब, ‘मोदी-योगी से पूछिए’

Posted by - April 17, 2018 0
अमेठी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तीन दिन के दौरे पर अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी में हैं। यहां एक सरकारी स्कूल…

पेट्रोल-डीजल और महंगा, 1 जून से ट्रक भाड़ा बढ़ाएगा महंगाई, 35 रुपए पहुंचा आलू

Posted by - May 29, 2018 0
नई दिल्ली। मंगलवार को लगातार 16वें दिन पेट्रोलियम कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमत में बढ़ोतरी की है। डीजल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *