रेप केस में फंसे आसाराम और नारायण साईं तो मौत की नींद सुला दिए गए कई गवाह

137 0

जयपुर। रेप केस में आसाराम को राजस्थान पुलिस ने सितंबर 2013 में गिरफ्तार किया था। आसाराम पर नाबालिग ने जोधपुर के आश्रम में रेप का आरोप लगाया था। खास बात ये कि इस मामले में आसाराम के खिलाफ कई गवाह मौत की नींद भी सुला दिए गए। ये सारी घटनाएं उस वक्त हुईं, जब आसाराम के बाद उसका बेटा भी रेप के मामले में गिरफ्तार हुआ और तमाम गवाहों ने बाप-बेटे के खिलाफ जुबान खोलने की हिम्मत दिखाई। यहां तक कि आसाराम समर्थकों ने जज को भी धमकी दी।

सितंबर 2013- जोधपुर सेशन कोर्ट के जज मनोज कुमार व्यास को आसाराम को जमानत देने के लिए उसके समर्थकों की ओर से धमकी दी गई।

दिसंबर 2013- आसाराम पर रेप का आरोप लगाने वाली एक महिला के पति को सूरत में चाकू मारा गया। महिला की छोटी बहन ने आसाराम के बेटे नारायण साईं पर रेप का आरोप लगाया था।

मार्च 2014- आसाराम के शिष्य रहे दिनेश भावचंदानी पर सूरत में दो बाइक सवारों ने तेजाब फेंका। भावचंदानी ने आसाराम के खिलाफ गवाही देने वालों को कानूनी मदद दिलाने में मदद की थी।

मई 2014- 12 साल तक आसाराम के आयुर्वेद डॉक्टर रहे अमृत प्रजापति को गुजरात के राजकोट में क्लीनिक के बाहर गोली मार दी गई। अमृत प्रजापति ने आसाराम के खिलाफ आश्रम में दो छात्रों की मौत के मामले में गवाही दी थी।

जनवरी 2015- यूपी के मुजफ्फरनगर में आसाराम के कुक रहे अखिल गुप्ता की हत्या कर दी गई। उसने सूरत की दो लड़कियों से रेप के मामले में आसाराम के खिलाफ गवाही दी थी।

फरवरी 2015- आसाराम के एक और आयुर्वेदिक डॉक्टर राहुल सचान पर जोधपुर सेशन कोर्ट में गवाही देने के लिए पहुंचने पर चाकू से हमला हुआ। सचान इससे पहले लखनऊ से नवंबर 2015 में लापता हो गया था। जिस बारे में सीबीआई ने अगवा करने का केस भी दर्ज किया था।

मई 2015- आसाराम के सहयोगी रहे महेंद्र चावला को हरियाणा के पानीपत में दो लोगों ने गोली मारी। आसाराम और उसके बेटे नारायण साईं के खिलाफ रेप केस में महेंद्र ने गवाही दी थी।

जुलाई 2015- जोधपुर के आश्रम में हुए रेप केस में आसाराम के खिलाफ गवाही देने वाले कृपाल सिंह की यूपी के शाहजहांपुर में गोली मारकर हत्या कर दी गई। कृपाल ने मौत से पहले इसका आरोप आसाराम के तीन शिष्यों पर लगाया। कृपाल ने ये भी बताया कि गवाही न देने के लिए आसाराम और उसके शिष्यों ने उसे रुपए देने का लालच भी दिया था।

मार्च 2016- आसाराम का समर्थक कार्तिक हलदर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से गिरफ्तार किया गया। पुलिस का कहना है कि कार्तिक ने पूछताछ में माना कि उसने आसाराम रेप केस में गवाही देने वाले तीन गवाहों अमृत प्रजापति, अखिल गुप्ता और कृपाल सिंह की हत्या की। कार्तिक हलदर पर चार अन्य गवाहों पर जानलेवा हमला करने का भी आरोप है।

Related Post

शोध : नौकरी में प्रमोशन का कोई सटीक फॉर्मूला नहीं, लेकिन बुद्धिमानी का है अहम रोल

Posted by - November 19, 2018 0
ब्रिस्टल। अक्‍सर नौकरी पेशा लोगों को उनकी मेहनत, प्रतिभा और वरिष्‍ठता के बावजूद मनचाहा प्रमोशन नहीं मिलता। ऐसे लोग हमेशा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *