संत बनने से पहले राजस्थान के अजमेर में तांगा हांकता था आसाराम

88 0

अजमेर। रेप केस में फंसे आसाराम को भले ही उसके भक्त बड़ा संत मानते हों, लेकिन जानकर अजरज होगा कि एक वक्त ऐसा भी था, जब आसाराम अजमेर में तांगा हांका करता था।
 
पाकिस्तान के सिंध प्रांत में पैदा हुआ आसाराम
आसाराम का जन्म मौजूदा पाकिस्तान के सिंध प्रांत में 1941 में हुआ। वो मूल रूप से सिंधी है। उसका नाम आसूमल सिंधी था। 7 साल की उम्र में परिवार के साथ आसाराम राजस्थान के अजमेर आ गया। वहां, वो तांगा चलाता था। आसाराम अपने तांगे पर तीर्थयात्रियों को अजमेर रेलवे स्टेशन से दरगाह शरीफ तक ले जाता था। आसाराम को जानने वाले बताते हैं कि तांगा चलाकर आसाराम दो वक्त की रोटी मुश्किल से जुटा पाता था। आज भी उसे जानने वाले कई तांगा चालक अजमेर में हैं।

संत बनने के बाद हुआ प्रसिद्ध
अचानक तांगा हांकना छोड़कर आसाराम संत बन गया। आसाराम को जानने वाले कई तांगा चालक बताते हैं कि आसाराम अपना तांगा लेकर खड़ी कुई तांगा स्टैंड पर खड़ा होता था।

पहले परिवार गुजरात में रहता था
आसाराम उर्फ आसूमल सिंधी का परिवार सिंध से आने के बाद पहले गुजरात में बसा था। बाद में आसाराम के पिता अजमेर आए और खड़ी कुई इलाके में बस गए। आसाराम ने युवा होने के बाद परिवार की मदद के लिए तांगा हांकना शुरू किया। बाद में वो संत बन गया और अजमेर से निकलकर पूरी दुनिया में अपने हजारों भक्त बना लिए।

Related Post

यहां सड़कों पर सब्जियों की तरह बिकता है स्मार्टफोन, सिर्फ 84 रुपये है कीमत

Posted by - September 5, 2018 0
नई दिल्ली। बांग्‍लादेश में एक ऐसी मार्केट है जहां सब्जियों की तरह फुटपाथ पर स्मार्टफोन बिकते हैं। हैरानी वाली बात…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *