आसाराम को अब जेल में रोज करना होगा काम, हर रोज मिलेंगे इतने रुपए

48 0

जोधपुर। रेप केस में दोषी पाए गए आसाराम को विशेष अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। उसके साथी शरतचंद्र और शिल्पी को भी 20-20 साल की सजा सुनाई गई है। इन सभी को अब जेल में काम करना होगा। जिसके एवज में तीनों को दिहाड़ी मजदूरी मिलेगी।

जेल में आसाराम की बदलेगी दिनचर्या
आसाराम, शरतचंद्र और शिल्पी की दिनचर्या अब जेल में बदल जाएगी। अब तक सभी आरोपी थे। ऐसे में उन्हें जेल में कोई काम नहीं करना पड़ता था। अब सजा सुनाए जाने के साथ ही सभी को जेल में काम करना होगा। हर रोज सुबह साढ़े 5 बजे सभी अन्य कैदियों के साथ जागेंगे। इसके बाद फ्रेश होकर नाश्ता और चाय पीएंगे। नाश्ता करने के बाद काम करेंगे। जिसके बाद दोपहर का लंच मिलेगा। फिर काम के लिए जाना होगा। शाम को खाना खाएंगे और जोधपुर सेंट्रल जेल के नियम के तहत शाम साढ़े 7 बजे तक सोने जाना होगा।

क्या करेंगे काम ?
जेल में कैदियों की उम्र के हिसाब से काम दिया जाता है। ऐसे में आसाराम को पेड़-पौधों को पानी देने या लिफाफे बनाने का काम मिल सकता है। वहीं, शिल्पी और शरतचंद्र की उम्र कम होने की वजह से दोनों को मेहनत वाला काम दिया जा सकता है। इसमें गेहूं पीसना, हल चलाना, कुर्सी बनाना, कपड़े बनाना वगैरा शामिल हैं।

कितनी मिलेगी मजदूरी ?
आसाराम, शिल्पी और शरतचंद्र को काम करने के बदले में हर रोज 35 रुपए दिहाड़ी मिलेगी। आसाराम को अगर उम्रकैद की सजा हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट से बहाल रहती है, तो आसाराम की रोज की दिहाड़ी उसकी मौत के बाद उस शख्स को सौंपी जाएगी, जिसका नाम आसाराम लिखकर जेल प्रशासन को देगा। वहीं, शिल्पी और शरतचंद्र की 20 साल की सजा बरकरार रही, तो रोज की दिहाड़ी के कुल रुपए रिहा होने पर दोनों को मिल जाएंगे।

Related Post

चीफ प्रॉक्टर ने ली बीएचयू घटना की जिम्मेदारी, दिया इस्तीफा, वीसी से छीने अधिकार

Posted by - September 27, 2017 0
वाराणसी । काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में छात्रा से हुई छेड़खानी के बाद हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है।…

वॉन्टेड इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक को मलेशिया ने दी पनाह

Posted by - November 2, 2017 0
कुआलालंपुर/नई दिल्ली.भारत के वॉन्टेड इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक को मलेशिया ने पनाह दे दी है। जाकिर को पिछले महीने मलेशिया की सबसे…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *