‘कामसूत्र’ काउच लाइए, अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाइए

138 0

नई दिल्ली। दुनिया को सेक्स के आसन सिखाने वाली किताब ‘कामसूत्र’  हमेशा चर्चा में रही है, लेकिन जिस भारत ने दुनिया को सेक्स के तौर-तरीके समझाए, वहीं सेक्स के बारे में लोग शायद सबसे कम जानते हैं। तमाम लोगों को तो सेक्स के आसन तक नहीं पता। ऐसे लोगों को बस मिशनरी पोजिशन आती है। ऐसे में आईआईटी दिल्ली के एक ग्रेजुएट गौरव सिंह ने लोगों की सेक्स लाइफ बेहतर बनाने के लिए बड़ा कदम उठाया है। उन्होंने  ‘लव रोलर’ नाम से स्टार्टअप शुरू किया है। ये स्टार्टअप लोगों की सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रहा है।

स्टार्टअप कैसे बना रहा है सेक्स लाइफ को बेहतर ?
गौरव सिंह का स्टार्टअप लव रोलर ऐसे काउच बना रहा है, जिनकी मदद से कोई भी कामसूत्र के 100 सेक्स आसन लगा सकता है। शानदार रंगों में बने ये काउच लोगों की सेक्स अपील को बढ़ाते भी हैं। हर काउच के साथ कामसूत्र के सेक्स पोजीशन वाली गाइड भी दी जाती है, जिसके जरिए कोई भी आसानी से सेक्स के आसन लगा सकता है।

क्यों शुरू किया स्टार्टअप ?
गौरव सिंह के मुताबिक, भारतीय कपल्स को सेक्स के बारे में पता नहीं है। सेक्स ऐसी चीज है, जिसके जरिए कोई कपल एक-दूसरे को महज आनंद ही नहीं देता, इसके जरिए एक-दूसरे के करीब भी आता है। सेक्स को भारत में महज मिशनरी पोजीशन समझा जाता है। साथ ही जिस बिस्तर पर हम सोते हैं, वो भी ऐसा नहीं होता, जो कामसूत्र के 100 आसनों को सपोर्ट करे। ‘क्वार्ट्ज’ को एक इंटरव्यू में गौरव ने बताया कि उनके काउच ऐसे कर्व वाले हैं, जो सेक्स का मजा कई गुना बढ़ा देते हैं।

सेक्स वाली काउच के कितने मिले ऑर्डर ?
गौरव की कंपनी लव रोलर को भारत के बड़े शहरों से 100 से ज्यादा ऑर्डर मिल चुके हैं। यहां तक कि कई इन्वेस्टर्स और होटल भी उनसे संपर्क कर चुके हैं। एक स्टैंडर्ड काउच करीब 21 हजार का और छोटा 16 हजार की कीमत का है। गौरव का कहना है कि अगर आपके पास स्पेस है, तो स्टैंडर्ड वाला बेहतर है। अगर स्पेस कम है, तो भी छोटा काउच खरीदकर कपल्स सेक्स का मजा ले सकते हैं।

इन काउच से आवाज भी नहीं आती
तमाम लोगों को सेक्स करते वक्त इससे दिक्कत होती है कि उनका पलंग भी आवाज करने लगता है, लेकिन गौरव के बनाए काउच कोई आवाज नहीं करते। यहां तक कि लोगों को ये भी न पता चले कि आखिर ये काउच किस चीज के लिए है, इसकी खातिर गौरव ने काउच को दो हिस्सों का किया है। ताकि देखने से पता न चले कि आखिर इसे किस काम में लाया जाता है।

Related Post

प्रख्यात साहित्यकार व जनवादी लेखक दूधनाथ सिंह का निधन

Posted by - January 12, 2018 0
नई कहानी आंदोलन को चुनौती देने के बाद साठोत्तरी कहानी आंदोलन का सूत्रपात किया था इलाहाबाद। प्रसिद्ध कथाकार और जनवादी लेखक…

अमेरिका जाना चाहते हैं ? फेसबुक, ट्विटर और ई-मेल के देने होंगे पासवर्ड !

Posted by - March 30, 2018 0
वॉशिंगटन। अमेरिका जाने वाले भारत समेत तमाम देशों के नागरिकों को वीजा देने की प्रक्रिया और कठिन की जा रही…

जनधन खाता है तो रहें सजग, 4 बार से ज्यादा लेन-देन किया तो नहीं मिलेंगी सुविधाएं

Posted by - May 28, 2018 0
मुंबई। पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले लोगों को बैंकों से जोड़ने के लिए महत्वाकांक्षी जनधन खाता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *