बड़ी खबर : जज लोया की मौत की स्वतंत्र जांच से SC का इनकार

137 0

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जज रहे बीएच लोया की मौत की स्वतंत्र जांच कराने से इनकार कर दिया है। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने इस मामले में दाखिल अर्जियों को न्यापालिका को बदनाम करने की कोशिश बताते हुए खारिज कर दिया।

बता दें कि जज लोया हाई प्रोफाइल सोहराबुद्दीन मर्डर केस की सुनवाई कर रहे थे, जब 1 दिसंबर 2014 को साथी जज की बेटी की शादी में नागपुर में उनकी अचानक मौत हो गई थी। बेंच ने 16 मार्च को फैसला सुरक्षित रख लिया था। जज लोया की संदिग्ध हालात में मौत की निष्पक्ष जांच के लिए कांग्रेस के नेता तहसीन पूनावाला और महाराष्ट्र के बीएस लोन ने अर्जी दाखिल की थी।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज जस्ती चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, एमबी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने इस साल 12 जनवरी को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया था कि चीफ जस्टिस मनमर्जी से अहम केस दूसरी बेंच को भेजते हैं। इन मामलों में जज लोया का केस भी शामिल है।

नवंबर 2017 में जज लोया की बहन ने शक जताया था कि उनके भाई की मौत सामान्य नहीं थी। उन्होंने इसे सोहराबुद्दीन शेख फर्जी एनकाउंटर से जोड़कर शक जताया था। वहीं, 14 जनवरी को लोया के बेटे ने कहा था कि उनके पिता की सामान्य हालात में मौत हुई।

सोहराबुद्दीन और उसके करीबी तुलसीराम प्रजापति को गुजरात पुलिस के कुछ अफसरों ने नवंबर 2005 में फर्जी एनकाउंटर दिखाकर मार दिया था। सोहराबुद्दीन शेख की पत्नी कौसर बी को मारकर उसकी लाश भी ठिकाने लगा दी गई थी। इस मामले में तब गुजरात के गृह मंत्री और बीजेपी के मौजूदा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, राजस्थान के गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया, राजस्थान के बिजनेसमैन विमल पाटनी, गुजरात पुलिस के डीजीपी पीसी पांडेय, एडीजी गीता जौहरी और गुजरात पुलिस के अफसर अभय चुड़ास्मा और एनके अमीन पर आरोप लगे थे। सभी को कोर्ट ने इस मामले में बरी कर दिया है। कई और पुलिसकर्मियों पर इस मामले में अभी केस चल रहा है।

Related Post

सवर्णों का भारत बंद : बिहार-मध्य प्रदेश में व्यापक असर, कई जगह पथराव व जाम, ट्रेनें रोकीं

Posted by - September 6, 2018 0
नई दिल्‍ली। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए SC/ST एक्ट में संशोधन कर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *