संयुक्त राष्ट्र ने कठुआ गैंगरेप को बताया भयावह, कहा – दोषियों को मिले कड़ी सजा

44 0

न्‍यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ बलात्कार और उसकी नृशंस हत्या के मामले को ‘भयावह’ करार दिया है। उन्‍होंने इस जघन्य अपराध को अंजाम देने वाले आरोपियों को कानून के दायरे में लाए जाने की उम्मीद जाहिर की।

अपराधियों को दी जाए सजा 

गुतेरस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा, ‘मैंने बच्ची के साथ बलात्‍कार के इस जघन्य अपराध की मीडिया रिपोर्ट देखी है। हमें उम्मीद है कि अधिकारी अपराधियों को कानून के दायरे में लाएंगे ताकि बच्ची के साथ बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में उन्हें सजा दी जा सके।’

मंदिर में हुआ था मासूम बच्ची का गैंगरेप

खानाबदोश बकरवाल मुस्लिम समुदाय की एक बच्ची 10 जनवरी को अपने घर के पास से लापता हो गई थी और एक हफ्ते के बाद उसका शव उसी इलाके में जंगल से मिला था। उसे गांव के ही एक मंदिर में रखकर एक हफ्ते तक उसके साथ कथित तौर पर छह लोगों ने बलात्कार किया था। मासूम की हत्या करने से पहले उसे नशीला पदार्थ देकर उसके साथ कई बार बलात्कार किया गया था। इस घटना को पूरे भारत में आक्रोश है।

मामले में अब तक 8 लोग गिरफ्तार

मासूम बच्‍ची से बलात्‍कार और उसकी हत्या के मामले की जांच के लिए क्राइम ब्रांच का एक विशेष जांच दल गठित किया गया है। इस मामले में अभी तक दो पुलिस अधिकारियों सहित आठ लोगों की गिरफ्तारी की गई है।

पीएम मोदी ने कहा – इंसाफ मिलेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई दिन बाद शुक्रवार को इस मामले पर अपनी चुप्‍पी तोड़ते हुए इस घटना को देश के लिए ‘शर्मनाक’ करार दिया। पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं देश को यह आश्वासन देना चाहता हूं कि इस मामले में शामिल  अपराधी किसी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा और पूरी तरह न्याय होगा। हमारी बेटियों को इंसाफ मिलेगा।’

Related Post

लैंडिंग के वक्त फिसला विमान, रनवे की जगह समंदर में जा घुसा, बाल-बाल बचे 47 यात्री

Posted by - September 28, 2018 0
वेलिंगटन। न्यूजीलैंड के माइक्रोनेशियन द्वीप पर हुए एक हादसे में 47 लोगों की जान बाल-बाल बच गई। दरअसल, पापुआ न्‍यूगिनी…

सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ रहा महिलाओं का ‘ग्रीन गैंग’

Posted by - April 12, 2018 0
मिर्जापुर में गैंग की महिलाएं गांव-गांव जाकर नशा करने वालों के खिलाफ चलाती हैं मुहिम महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और स्वच्छता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *