गरीबों के लिए हेल्थ इन्श्योरेंस आयुष्मान भारत लॉन्च, PM ने गरीब महिला को पहनाई चप्पल

46 0

बीजापुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिले बीजापुर से गरीबों को हेल्थ इन्श्योरेंस देने वाली मेगा स्कीम आयुष्मान भारत लॉन्च किया गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने जांगला गांव को आयुष्मान भारत स्कीम के लिए पहले चुना। इस योजना के तहत हर गरीब परिवार को 5-5 लाख का मुफ्त हेल्थ इन्श्योरेंस मिलेगा। गरीब इससे बड़े अस्पतालों में भी इलाज करा सकेंगे। इस योजना का एलान इस बार बजट भाषण पढ़ते वक्त वित्त मंत्री अरुण जेटली ने किया था।

क्या है आयुष्मान भारत योजना ?
इस योजना के तहत देश के 11 करोड़ गरीब परिवारों को 5-5 लाख का मुफ्त हेल्थ इन्श्योरेंस दिया जाएगा। इसके लिए 70 फीसदी धन केंद्र सरकार देगी और 30 फीसदी राज्य सरकार को देना होगा। 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले पीएम मोदी का इरादा इस योजना के जरिए देश के सभी गरीबों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने का है।

आदिवासी महिला को पहनाई चप्पल
आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने सभा में मौजूद एक आदिवासी महिला को चप्पल पहनाए। उन्होंने कहा कि 14 अप्रैल का दिन देश के 125 करोड़ लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। बाबासाहेब आंबेडकर की जयंती में बीजापुर की जनता से आशीर्वाद पाने का अवसर मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है।

मोदी ने और क्या कहा ?
संविधान के निर्माता डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती के मौके पर मोदी ने आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत करते हुए इसे बाबासाहेब को सच्ची श्रद्धांजलि बताया। उन्होंने कहा कि बीजापुर के लोगों में उम्मीद जगाने वो पहुंचे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि बाबासाहेब आंबेडकर की वजह से ही मैं पीएम की कुर्सी तक पहुंच सका हूं। एक अति पिछड़े वर्ग और गरीब मां का बेटा देश की सबसे ऊंची कुर्सी पर बैठ सका।

जिलों की बदहाली का ठीकरा कांग्रेस पर फोड़ा
पीएम नरेंद्र मोदी ने देश के 100 जिलों की बदहाली को दूर करने का वादा किया। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि देश की आजादी के 70 साल बाद भी इतने जिले पिछड़े हुए हैं, ये हैरत की बात है। उन्होंने कहा कि कमजोर को प्रोत्साहन मिले, तो वो भी दौड़ में आगे निकल सकता है। उन्होंने कहा कि पिछड़े जिलों में नई सोच के साथ सरकार काम करेगी।

तौर-तरीके बदलने की नसीहत
पीएम ने इस मौके पर कहा कि हमें विकास का लक्ष्य हासिल करने के लिए तौर-तरीकों में बदलाव लाना होगा। पुरानी राह पर चलकर नई मंजिल नहीं मिलती। मोदी ने किसानों से कहा कि हर फसल के लिए कम या ज्यादा पानी देखकर दिया जाता है। चावल के लिए ज्यादा और गेहूं के लिए कम पानी दिया जाता है। उन्होंने कहा कि किसानों से सीखना चाहिए कि हर जिले के लिए अलग-अलग रणनीति कैसे बनाई जाए। छोटे कदम विकास की दौड़ में आगे ले जाएंगे।

Related Post

सुप्रीम कोर्ट की नसीहत- मीडिया से रिपोर्टिंग में गलती पर ना करें मानहानि का मुकदमा

Posted by - January 9, 2018 0
सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा – लोकतंत्र में आपको सहनशीलता सीखनी चाहिए नई दिल्‍ली। उच्चतम न्यायालय ने टिप्पणी की…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *