गरीब ब्राह्मणों को भी दलित मानते थे बाबासाहेब, 8 घंटे काम भी उन्हीं की देन

37 0
  1. नई दिल्ली। आज बाबासाहेब डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती है। इस मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं उनकी जिंदगी से जुड़ी ऐसी जानकारियां, जिन्हें कम ही लोग जानते हैं। इनमें से तमाम जानकारियां ऐसी हैं, जो आपको चौंकने पर मजबूर कर देंगी और जिन्हें जानकर बाबासाहेब के प्रति आपके दिल में सम्मान की भावना आएगी।
विदेश से डॉक्टरेट करने वाले पहले भारतीय
बाबासाहेब भीमराव रामजी आंबेडकर का सरनेम अम्बावाडेकर था। जब वो स्कूल गए, तो बाबासाहेब के टीचर ने स्कूल रिकॉर्ड में उनके नाम के साथ आंबेडकर जोड़ दिया। विदेश से डॉक्टरेट और इकोनॉमिक्स में डिग्री हासिल करने वाले बाबासाहेब पहले भारतीय थे। आंबेडकर के पास 8 डिग्रियां थीं। वो 64 विषयों के मास्टर थे।
अमेरिका में पढ़ाई जाती है आंबेडकर की आत्मकथा
बाबासाहेब भीमराव रामजी आंबेडकर की आत्मकथा का शीर्षक ‘वेटिंग फॉर अ वीजा’ है। इसे अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी में पढ़ाया जाता है। बाबासाहेब ने रिजर्व बैंक की स्थापना में बड़ी भूमिका निभाई थी। उनकी किताब ‘द प्रॉब्लम ऑफ द रुपी- इट्स ऑरिजिन ऐंड इट्स सलूशन’ से रिजर्व बैंक की स्थापना के लिए कई सुझाव लिए गए थे। वो अपने वक्त में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे सांसद थे और देश के पहले कानून मंत्री बनाए गए थे।
गरीब ब्राह्मणों को भी मानते थे दलित
आंबेडकर एक खास वर्ग की जगह सभी गरीबों को दलित मानते थे। वो कहते थे कि जिन्हें सामाजिक सुविधाएं नहीं मिलतीं, वे दलित हैं। ऐसे में बाबासाहेब हमेशा गरीब ब्राह्मण छात्रों की भी मदद करते थे। बाबासाहेब भीमराव रामजी आंबेडकर ने 1955 में मध्यप्रदेश और बिहार के विभाजन का सुझाव दिया था। 45 साल बाद साल 2000 में मध्यप्रदेश का विभाजन कर छत्तीसगढ़ और बिहार से काटकर झारखंड बना।
8 घंटे काम बाबासाहेब की देन
पहले भारतीयों के लिए काम के घंटों की संख्या हर रोज 14 हुआ करती थी। भारतीय लेबर कॉन्फ्रेंस के 7वें सेशन में बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर ने काम करने के घंटों की संख्या 8 तय कराई थी।

Related Post

गृहमंत्री बोले – एसएससी पेपर लीक मामले की होगी सीबीआई जांच

Posted by - March 5, 2018 0
राजनाथ सिंह ने कहा – प्रदर्शनकारी छात्र अब घर जाएं और सीबीआई की रिपोर्ट का इंतजार करें नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री…

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा – क्या यमुना एक्सप्रेस-वे जेपी एसोसिएट्स का है?

Posted by - October 24, 2017 0
  165 किलोमीटर लंबे इस एक्‍सप्रेस-वे को 2500 करोड़ रुपये में बेचना चाहता है जेपी एसोसिएट्स नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *