20 करोड़ के BITCOIN चोरी, हैकर्स ने वॉलेट में सेंधमारी कर लगा दिया चूना

102 0

नई दिल्ली। हैकिंग करने वालों ने कॉइनसिक्योर नाम की प्रमुख बिटकॉइन एक्सचेंज फर्म से 440 बिटकॉइन्स चोरी कर लिए। इनकी कीमत 20 करोड़ रुपए बताई जा रही है। क्रिप्टोकरेंसी की ये सबसे बड़ी चोरी बताई जा रही है। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने आईपीसी की धाराओं के साथ आईटी एक्ट की धारा 66 भी लगाई है। हैकर्स की तलाश में पुलिस की टीमों को लगाया गया है।

चोरी का पता कैसे चला ?
कॉइनसिक्योर नाम की कंपनी के भारत में 2 लाख से ज्यादा यूजर हैं। कंपनी ने पुलिस में शिकायत की है कि सोमवार को वॉलेट्स को चेक करने के दौरान बिटकॉइन्स की चोरी के बारे में पता चला। जिन बिटकॉइन्स को ऑफलाइन स्टोर में रखा गया था, वो गायब थे। कंपनी ने जांच की, तो पता चला कि वॉलेट्स के पासवर्ड लीक हो चुके थे, जिसकी वजह से हैकिंग हुई।

हैकर्स का पता न चलने पर पुलिस में की शिकायत
कॉइनसिक्योर ने पहले हैकिंग कर बिटकॉइन उड़ाने वालों की खुद तलाश की, लेकिन वॉलेट्स के सभी डेटा लॉग हैकर्स ने उड़ा दिए थे। ऐसे में जब कंपनी नाकाम रही, तो उसकी ओर से पुलिस को रिपोर्ट की गई। कंपनी ने गुरुवार रात को अपनी वेबसाइट पर मैसेज डालकर अपने कस्टमर्स को इस बारे में जानकारी दी थी। कंपनी को शक है कि बिटकॉइन्स की चोरी में उसके ही किसी कर्मचारी का हाथ है।

हैकर्स को ऑनलाइन मिल गए थे पासवर्ड
पुलिस के मुताबिक, कंपनी जिस पासवर्ड को रखती हैं, उसे कभी ऑनलाइन नहीं किया जाता, लेकिन कॉइनसिक्योर ने अपने पासवर्ड ऑनलाइन कर रखे थे और 12 घंटे तक ये इसी तरह थे। इसी दौरान चोरी की घटना हुई। पुलिस ने इस बारे में जांच के लिए कंपनी के सीनियर सिक्योरिटी अफसरों को तलब किया है। इसके अलावा सर्वर को भी सील कर दिया गया है।

Related Post

ट्रंप-किम मुलाकात में कुछ घंटे बाकी, 50 करोड़ खर्च कर हो रही दोनों की सुरक्षा

Posted by - June 11, 2018 0
सेंटोसा। दुनिया को उन दो नेताओं के बीच मुलाकात का बेसब्री से इंतजार है, जो मंगलवार को सिंगापुर में होने…

2 लाख रुपये वाली शराब पीते हैं अर्जुन रामपाल, महेश भट्ट का सुनेंगे तो हैरान रह जाएंगे

Posted by - August 27, 2018 0
मुबंई। बॉलीवुड सेलेब्स महंगे ब्रांड के कपड़े पहनने के लिए जाने जाते हैं। कई सेलेब्‍स के कपड़ों की कीमत तो…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *