नवाज शरीफ का खेल खत्म, जिंदगी भर नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

30 0

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की सियासत से पूर्व पीएम नवाज शरीफ के आउट होने का रास्ता वहां की सुप्रीम कोर्ट ने तय कर दिया है। अपने ऐतिहासिक फैसले में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नवाज शरीफ जिंदगी भर न चुनाव लड़ सकेंगे और न ही कोई पब्लिक पोस्ट ही ले सकेंगे।

कोर्ट ने क्या कहा ?
पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की बेंच ने पीएमएल-एन के अध्यक्ष नवाज शरीफ की अर्जी पर सुनवाई करते हुए फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि पाकिस्तानी संविधान के मुताबिक चुनाव लड़ने से अयोग्य किए जाने का मतलब जिंदगी भर के लिए चुनाव न लड़ पाना होता है। बता दें कि नवाज शरीफ तीन बार पाकिस्तान के पीएम रह चुके हैं।

पनामा पेपर केस में गई थी कुर्सी
नवाज शरीफ को पनामा पेपर्स में नाम आने के बाद 28 जुलाई 2017 को पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने पीएम पद और चुनाव के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था। जिसे नवाज शरीफ ने चुनौती दी थी। दरअसल, पाकिस्तान के संविधान के अनुच्छेद 62 (1)(एफ) में लिखा गया है कि अगर कोई एमपी सादिक और अमीन यानी ईमानदार और सच्ची राह पर चलने वाला न हो, तो उसे अयोग्य माना जाएगा। कोर्ट ने हालांकि तब ये तय नहीं किया था कि नवाज शरीफ कितने साल के लिए अयोग्य होंगे। अब सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने उन्हें हमेशा के लिए अयोग्य ठहरा दिया है।

पीएमएल-एन के अध्यक्ष भी नहीं रहेंगे
सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने ये भी कहा है कि नवाज शरीफ अपनी सत्तारूढ़ पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष भी नहीं रह सकते। कोर्ट ने कहा कि देश के संविधान के मुताबिक अयोग्य ठहराया गया व्यक्ति कोई पद भी नहीं ले सकता। पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से 68 साल के नवाज शरीफ का सियासत में अब कोई रोल नहीं रह गया है।

Related Post

मेडिकल कॉलेज घूस कांड की नहीं होगी एसआईटी जांच

Posted by - November 14, 2017 0
सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सीबीआई जांच की निगरानी की मांग वाली याचिका, भूषण-कामिनी को फटकार नई दिल्ली। मेडिकल कॉलेज मान्यता…

पुणे के स्कूल ने लड़कियों के इनरवियर पर जारी किया अजीबोगरीब फरमान

Posted by - July 5, 2018 0
बेतुके फरमान के खिलाफ अभिभावकों और छात्राओं ने किया स्‍कूल के खिलाफ प्रदर्शन पुणे। यहां के एमआईटी स्‍कूल ने लड़कियों के…

SC ने कुछ नहीं कहा था, जबरदस्ती सरकार आपके मोबाइल नंबर से जुड़वा रही आधार  

Posted by - April 26, 2018 0
नई दिल्ली। सरकारी तंत्र और मोबाइल कंपनियों ने लगातार कह-कह कर और मैसेज भेज-भेज कर लोगों को अपना मोबाइल नंबर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *