उन्नाव रेप केस : हाईकोर्ट का आदेश – आरोपी विधायक को डिटेन नहीं, गिरफ्तार करें

18 0

इलाहाबाद। उन्नाव रेप केस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनात हुए आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है। मुख्‍य न्‍यायाधीश डीबी भोंसले और न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की पीठ ने कहा है कि आरोपी की हिरासत ही काफी नहीं है, उसे तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। अदालत ने सीबीआई से 2 मई को इस मामले में प्रगति रिपोर्ट भी सौंपने का आदेश दिया। हाईकोर्ट इस पूरे मामले की जांच पर निगाह भी रखेगी।

अन्‍य आरोपियों की जमानत रद्द कर जेल भेजें

हाईकोर्ट ने अपने अहम फैसले में कहा कि 20 जून, 2017 में दर्ज एफआईआर में जिन आरोपियों के नाम हैं और आज वे जमानत पर हैं, उनकी जमानत रद्द कर उन्हें भी जेल भेजा जाए। कोर्ट ने कहा कि सीबीआई ने अभी विधायक को पूछताछ के लिए बुलाया है, लेकिन उसकी गिरफ्तारी नहीं की। सीबीआई उसे गिरफ्तार कर जेल भेजे।

विधायक से सीबीआई कर रही पूछताछ

बता दें कि सीबीआई ने शुक्रवार सुबह ही कुलदीप सिंह सेंगर को हिरासत में लिया है और उसके बाद से ही उनसे पूछताछ की जा रही है। माना जा रहा था कि सीबीआई अगर उनके जवाबों से संतुष्ट नहीं हुई तो उन्‍हें गिरफ्तार किया जा सकता है, लेकिन अब हाईकोर्ट के आदेश के बाद सेंगर गिरफ्तारी तय मानी जा रही है।

कल सुरक्षित रख लिया था फैसला

बता दें कि गुरुवार को इस मामले में सुनवाई के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले और न्यायमूर्ति सुनीत कुमार की खंडपीठ ने प्रदेश सरकार पर कड़ी टिप्‍पणी करते हुए कहा कि सूबे में कानून व्यवस्था ध्‍वस्‍त हो गई है। विधायक की गिरफ्तारी न होने को लेकर भी हाईकोर्ट ने तल्ख टिप्पणी की थी।

और क्‍या कहा था हाईकोर्ट ने ?

हाईकोर्ट ने पूछा कि सरकार आरोपी विधायक के खिलाफ क्‍या कार्रवाई कर रही है ? इस पर महाधिवक्ता ने कहा कि मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई समेत तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है। इस पर अदालत ने पूछा कि क्या कुलदीप सिंह सेंगर को भी गिरफ्तार करने की कोई योजना है ? जवाब में महाधिवक्‍ता ने कहा कि इस बारे में वह कोई बयान देने की स्थिति में नहीं हैं। पुलिस शिकायतकर्ता और गवाहों का बयान दर्ज करने के बाद कानून के अनुसार कार्रवाई करेगी। सरकार की ओर से कहा गया कि विधायक के खिलाफ कोई सबूत न होने की वजह से उन्‍हें गिरफ्तार नहीं किया गया तो इस पर कोर्ट ने तल्‍ख लहजे में पूछा कि क्‍या ऐसे अन्‍य मामलों में भी सबूत मिलने का इंतजार किया गया था ?

Related Post

सीबीएसई पेपर लीक : 12वीं अर्थशास्त्र की परीक्षा 25 अप्रैल को, गणित पर फैसला नहीं

Posted by - March 30, 2018 0
शिक्षा सचिव बोले – जरूरत हुई तो सिर्फ दिल्‍ली और हरियाणा में होगी 10वीं के गणित की दोबारा परीक्षा  …

मोदी ने विज्ञापनों पर खर्चे 4880 करोड़, इतने में करोड़ों बच्चों को 1 साल मिलता मिड डे मील

Posted by - August 10, 2018 0
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी की सरकार ने 4 सालों में अलग-अलग मीडिया माध्यमों में विज्ञापनों पर…

कर्नाटक के लिए राहुल ने जारी किया मेनीफेस्टो, बोले- इसमें जनता के मन की बात

Posted by - April 27, 2018 0
बेंगलुरु। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के लिए पार्टी का मेनीफेस्टो जारी कर दिया है। मंगलुरु में पार्टी मेनीफेस्टो…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *